बंगाल में नहीं थम रहा भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या का सिलसिला

    दिनांक 24-मार्च-2021   
Total Views |
पश्चिम बंगाल में जैसे-जैसे चुनाव की तारीख पास आती जा रही हैं, वैसे-वैसे वहां राजनैतिक हिंसा बढ़ती जा रही है। लगातार भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले किए जा रहे हैं, उनकी हत्या की जा रही है

bjp protest _1  
 
बंगाल में लगातार हो रही भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या को लेकर प्रदर्श करती भाजपा। (फाइल फोटो )
बुधवार सुबह राज्य के कूचबिहार जिले में दिनहाटा में भारतीय जनता पार्टी के मंडल अध्यक्ष अमित सरकार की भी बर्बरता से हत्या कर दी गई। भाजपा ने आरोप लगाया है कि बंगाल में तृणमूल के गुंडे और वामंपथी लगातार भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बना रहे हैं।
इससे पहले भी कोलकाता के सोनारपुर में एक भाजपा कार्यकर्ता विकास नस्कर का शव पेड़ से लटकता मिला था। भाजपा ने कहा था कि विकास नस्कर की हत्या कर दी गई है। वह बूथ नंबर 57 का भाजपा का कार्यकर्ता था। बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 27 मार्च से शुरू होगा।
चुनावों को देखते हुए एक तरफ जहां एक तरफ ममता बनर्जी खुद को सबसे बड़ी हिन्दू साबित करने में जुटी है तो दूसरी तरफ उनके कार्यकर्ता जय श्रीराम का जयकारा लगाने पर भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को मारने में जुटे हुए हैं। भाजपा नेताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं। 2020 में ही 35 से ज्यादा भाजपा कार्यकर्ताओं हत्या की गई और हजारों पर हमले किए गए। बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता घायल हुए हैं।

हाल ही में बंगाल में हुई हिंसा की घटनाएं
7 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हल्दिया में सभा से पहले नंदकुमार में उनके पोस्टर फाड़ दिए गए। प्रधानमंत्री मोदी की सभा में शामिल होने के लिए जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने हमले किए। हमले में पांच भाजपा कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल भी हुए।
प्रधानमंत्री मोदी की 7 फरवरी को बंगाल की यात्रा के बाद से भाजपा कार्यकर्ताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं। 9 फरवरी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के पहुंचने से पहले लालगढ़ के झिटका में भाजपा कार्यकर्ताओं की बस पर गोलीबारी की गई।
10 फरवरी को हुगली के सेवड़ाफुल्ली में जय श्रीराम का लिखा मॉस्क बांट रहे 19 भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इससे पहले 7 फरवरी को चांपदानी में भी जय श्रीराम लिखे मॉस्क बांटने पर विवाद हुआ था। पुलिस का कहना था कि बिना अनुमति मॉस्क बांटे जा रहे थे। पुलिस का कहना था कि इससे कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब हो सकती थी। 14 फरवरी
11 फरवरी को दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर में घायल भाजपा कार्यकर्ता पीयूष कांति प्रमाणिक की मौत हो गई। 1 जनवरी को प्रमाणिक भोलारहाट से अगवा करके तृणमूल कांग्रेस के लोगों ने बुरी तरह पीटा था। हत्या के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव किया था।
12 फरवरी को बीरभूम जिले में परिवर्तन यात्रा से लौट रहे भाजपा कार्यकर्ताओं को घेरकर पीटा गया। कुछ कार्यकर्ताओं क घरों तोड़फोड़ की गई। सैंथिया इलाके में भाजपा के दो कार्यकर्ताओं संतू डोम और माखन डोम पर गर्म पानी डाल दिया गया। दोनों को झुलसी हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया।
13 फरवरी को कोलकाता से सटे उत्तर 24 परगना जिले के बासंती हाइवे पर भाजपा नेता बाबू मास्टर की गाड़ी रोककर उन पर बम व गोलियों से हमला किया गया। हमले में घायल भाजपा नेता और उनके ड्राइवर को रक्त रंजित हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उत्तर 24 परगना के मीनाखां इलाके में प्रभावशाली नेता बाबू मास्टर पिछले साल दिसंबर में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। 13 फरवरी को ही उत्तर 24 परगना के बारासात में सड़क किनारे खड़ी भाजपा सांसद जगन्नाथ सरकार की कार को उड़ा दिया।
16 फरवरी को कूचबिहार जिले के बक्शीरहाट में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के पोस्टर फाड़ने का विरोध करने पर पार्टी कार्यकर्ता बादल शाह, उनकी पत्नी और बेटे पर हमला किया गया।