पंजाब: किसानों के नाम पर गुण्डागर्दी जारी, रा.स्व.संघ के प्रचारक पर किया हमला

    दिनांक 16-अप्रैल-2021   
Total Views |
पंजाब में कथित किसान आन्दोलन के नाम पर नक्सली शैली में भाजपा एवं संघ कार्यकर्ताओं पर हमले और कुछ लोगों की गुण्डागर्दी न केवल जारी है, बल्कि बेलगाम होती दिखाई दे रही है।
punjab pulish_1 &nbs
 
पंजाब में कथित किसान आन्दोलन के नाम पर नक्सली शैली में भाजपा एवं संघ कार्यकर्ताओं पर हमले और कुछ लोगों की गुण्डागर्दी न केवल जारी है, बल्कि बेलगाम होती दिखाई दे रही है। विगत दिनों फिरोजपुर के गांव निहाला लवेरा स्थित कार्यकर्ता के घर पहुंचे रा.स्व.संघ के प्रचारक  श्रीरामगोपाल की गाड़ी पर कथित किसान संगठन के सदस्यों ने हमला कर दिया। आरोपितों ने लाठियों से उनकी गाड़ी के शीशे तोड़ दिए। घटना के बाद शुरू हुई पुलिस जांच के आधार पर पांच अज्ञात लोगों पर थाना आरिफके में मामला दर्ज किया गया है। जांच कर रहे एएसआइ नरिन्दर पाल ने कहा कि अभी आरोपितों को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। हमले में किन संगठनों के लोगों का हाथ था, इसका पता लगाया जा रहा है।

दरअसल प्रचारक श्रीरामगोपाल आरिफके थाना अन्तर्गत गांव निहाला लवेरा में दर्शन सिंह के घर जा रहे थे। तभी कथित किसानों ने उनका रास्ता रोक लिया। इन लोगों के विरोध को किसी तरह पुलिस ने बल प्रयोग कर ठंडा किया। हालांकि जब वे रात करीब साढ़े सात बजे गांव बग्गे वाला के पास पहुंचे तो एक कार उनकी गाड़ी के आगे रुकी और कुछ लोग कार से बाहर निकले। उनके हाथ में लाठियां थीं। हमलावरों ने श्रीरामगोपाल और उनके साथ आ रही एक और कार के शीशे तोड़ दिए। हमले में श्रीरामगोपाल सुरक्षित हैं और उन्हें कोई चोट नहीं पहुंची। एएसआइ नरिन्दर सिंह ने आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज करके तलाश शुरू कर दी है।

वाई प्लस सुरक्षा मिली हुई है श्रीरामगोपाल को

punjab pulish_1 &nbsपंजाब में संघ सह प्रान्त संघचालक ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा, लुधियाना में श्री रविन्द्र कुमार की हत्या और बेअदबी की घटनाओं से खराब हुए माहौल के बाद श्रीरामगोपाल को वाई प्लस सुरक्षा मिली है।

इस व्यवस्था के तहत सुरक्षा प्राप्त व्यक्ति के प्रवास के समय स्थानीय पुलिस को भी सुरक्षा उपलब्ध करवानी होती है, परन्तु देखने में आया कि उक्त घटना के समय पंजाब पुलिस ने उनकी सुरक्षा की समुचित व्यवस्था नहीं की थी।

केवल इतना ही नहीं घटना के समय आए वीडियो में हमलावर किसानों के चेहरे साफ दिखाई दे रहे हैं, परन्तु पुलिस ने एफआईआर में किसी का नाम शामिल नहीं किया है। मौजूदा समय में भी पुलिस केवल लीपापोती करती दिखाई दे रही है और कड़ी कार्रवाई करने की बजाय हमलावरों के सामने हाथ जोड़ते दिखाई दे रही।

इससे साफ संकेत मिलता है कि कांग्रेस सरकार के इशारे पर राज्य में इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। श्रीरामगोपाल ने पूरी घटना की शिकायत फिरोजपुर के एसएसपी से करके आरोपियों को तुरन्त गिरफ्तार करने की मांग की है।


पहले भी हो चुके हैं हमले

बता दें कि संघ कार्यकर्ताओं और भाजपा नेताओं को निशाना बनाने की पंजाब में यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी पंजाब के कथित किसान संघ और भाजपा नेताओं को निशाना बनाते रहे हैं। इससे पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी शर्मा की गाड़ी में भी किसान होशियारपुर के पास तोड़फोड़ कर चुके हैं। पंजाब के भाजपा नेता और सांसद श्वेत मलिक और विजय साम्पला का भी कई बार घेराव करने की कोशिश की जा चुकी है।