पंजाब के किसानों के खाते में सीधे भेजे गए 8,180 करोड़ रुपये

    दिनांक 27-अप्रैल-2021   
Total Views |
पहली बार पंजाब के किसानों ने अपनी गेहूं की फसल की बिक्री के लिए सीधे अपने बैंक खातों में भुगतान प्राप्त किया. करीब 8,180 करोड़ रुपये सीधे पंजाब के किसानों के खातों में भेज दिए गए हैं.  
punjab_1  H x W

पहली बार  पंजाब के किसानों ने अपनी गेहूं की फसल की बिक्री के लिए सीधे अपने बैंक खातों में भुगतान प्राप्त किया. करीब 8,180 करोड़ रुपये सीधे पंजाब के किसानों के खातों में भेज दिए गए हैं. 2021-22 के मौजूदा रबी विपणन सत्र (आरएमएस) में  भारत सरकार ने वर्तमान मूल्य समर्थन योजना के अनुरूप किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर रबी फसल की खरीद जारी रखी है.

पंजाब, हरियाणा,  उत्तर प्रदेश,  चंडीगढ़,  मध्य प्रदेश, राजस्थान एवं अन्य खरीद राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों में गेहूं की खरीद तेज गति से चल रही है और 25 अप्रैल 2021 तक 222.33 एलएमटी (लाख मीट्रिक टन) से अधिक फसल की खरीद की जा चुकी है, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 77.57 लाख मीट्रिक टन फसल की खरीद की गयी थी.

25 अप्रैल, 2021 तक की गयी 222.33 लाख मीट्रिक टन की कुल खरीद में से, पंजाब– 84.15 लाख मीट्रिक टन (37.8 प्रतिशत),  हरियाणा- 71.76 लाख मीट्रिक टन (32.27 प्रतिशत) और मध्य प्रदेश -51.57 लाख मीट्रिक टन (23.2 प्रतिशत) ने प्रमुख योगदान दिया है.

करीब 21.17 लाख गेहूं के किसानों को पहले से ही 43,912 करोड़ रुपये के एमएसपी मूल्य के साथ मौजूदा रबी विपणन सत्र में खरीद अभियानों से लाभान्वित किया जा चुका है.

25 अप्रैल, 2021 तक  पंजाब में लगभग 8,180 करोड़ रुपये और हरियाणा में लगभग 4,668 करोड़ रुपये सीधे किसानों के खाते में भेजे गए हैं.

इस वर्ष, सार्वजनिक खरीद के इतिहास में तब एक नया अध्याय जुड़ा, जब हरियाणा और पंजाब ने एमएसपी के अप्रत्यक्ष भुगतान का तरीका छोड़ते हुए भारत सरकार के निर्देशानुसार सभी खरीद एजेंसियों द्वारा किसानों के बैंक खाते में ऑनलाइन पैसे भेजने का तरीका अपनाया. इससे पंजाब/ हरियाणा के किसान काफी खुश हैं क्योंकि “वन नेशन, वन एमएसपी, वन डीबीटी” के तहत, पहली बार उन्हें बिना किसी देरी और कांट-छाट के अपनी फसलों का लाभ प्राप्त हो रहा है.