कोरोना महामारी में 'लाइफ लाइन' बनी भारतीय रेल

    दिनांक 30-अप्रैल-2021   
Total Views |
कोरोना महामारी से युद्ध स्तर पर काम करना जारी है। ऐसे में भारतीय रेलवे ‘लाइफ लाइन’ का काम कर रही है। दूर दराज के क्षेत्रों से रेल के माध्यम से ऑक्सीजन व अन्य मेडिकल सहायता पहुंचाई जा रही है
contniner_1  H

कोरोना महामारी के इस दौर में भारतीय रेलवे ‘लाइफ लाइन’ का काम कर रही है. भारतीय रेलवे ने अब तक उत्तर प्रदेश को 202 मीट्रिक टन, महाराष्ट्र को 174 मीट्रिक टन, दिल्ली को 70 मीट्रिक टन और मध्य प्रदेश को 64 मीट्रिक टन तरल ऑक्सीजन पहुंचा चुकी है.

देश के विभिन्न प्रदेशों में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए भारतीय रेल लगातार लिक्विड आक्सीजन के टैंकर पहुंचा रही है. अभी तक, 510 मीट्रिक टन से अधिक तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और दिल्ली में पहुंचाया जा चुका है. लखनऊ के लिए चौथी ऑक्सीजन एक्सप्रेस, एलएमओ के तीन टैंकरों को लखनऊ पहुंचा चुकी है. एक और खाली रैक (छठा) लखनऊ से बोकारो के रास्ते में है, जो उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाले ऑक्सीजन टैंकर का एक और सैट लाएगा. ऑक्सीजन एक्सप्रेस, उत्तर प्रदेश को लगातार ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित कर रही है.

 
हरियाणा सरकार ने भी ऑक्सीजन एक्सप्रेस के लिए भारतीय रेलवे से मांग की थी. वर्तमान समय में खाली टैंकर फरीदाबाद में लोड करा करके राउरकेला में भरने के लिए भेजा गया है. भारतीय रेलवे ने यह भी तय किया है कि 5 टैंकरों की क्षमता वाली 2 ऑक्सीजन एक्सप्रेस  केवल हरियाणा के लिए चलाई जाएगी. आने वाले दिनों में हरियाणा में भी ऑक्सीजन की कमी को जल्द ही दूर किया जाएगा. मध्य प्रदेश को अभी तक 64 मीट्रिक टन से अधिक तरल चिकित्सा ऑक्सीजन पहुंचाया जा चुका है. मध्य प्रदेश के जबलपुर स्टेशन पर 1 टैंकर, भोपाल स्टेशन पर 2 टैंकर और सागर स्टेशन पर 3 टैंकर उतारे गए.