हिंदू बच्चों को नमाज पढ़वाने को लेकर एनसीपीसीआर हुआ सक्रिय, जिलाधिकारी को जांच करने का कहा

    दिनांक 28-जून-2021   
Total Views |

उत्तर प्रदेश में नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में बच्चों को नमाज पढ़वाने के मामले को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने गंभीरता से लिया है। आयोग ने फतेहपुर के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर कहा है कि इस मामले की जांच कर तीन दिन के अंदर रिपोर्ट दें।
DEE_1  H x W: 0
राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) द्वारा फतेहपुर के जिलाधिकारी को लिखा गया पत्

उत्तर प्रदेश में फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चों को नमाज पढ़वाने का मामला उजागर होने पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए फतेहपुर के जिलाधिकारी को एक पत्र लिखा है। इसमें उनसे कहा गया है कि निम्न बिंदुओं की जांच करके रिपोर्ट दें— क्या हिंदू बच्चों को उनके धर्म के अतिरिक्त और किसी मजहब की उपासना में शामिल किया गया था, क्या बच्चों को किसी दूसरे मजहब की उपासना में शामिल करने से पहले उनके अभिभावकों की अनुमति ली गई थी, अगर स्कूल में पढ़ने वाले बच्चोें का कन्वर्जन किया गया तो उसकी जानाकारी दें। 

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा गिरफ्तार किए गए मोहम्मद उमर गौतम पर फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में अंग्रेजी की शिक्षिका रही कल्पना सिंह ने कई गंभीर आरोप लगाए हैं। कल्पना सिंह ने कहा है कि उन पर मुसलमान बनने का दबाव था। उन्होंने यह भी कहा कि स्कूल में हिंदू बच्चों को उर्दू और अरबी भी पढ़ाई जाती थी। जब उन्होंने उसका विरोध किया तो उन्हें स्कूल से निकाल दिया गया। कल्पना ने यह भी कहा है कि उमर गौतम बराबर उस स्कूल में आया करता था। फरवरी, 2020 में भी वह स्कूल आया था। उसके साथ 20-25 अन्य मौलाना भी थे। उन मौलानाओं ने कल्पना पर भी मुसलमान बनने का दबाव डाला था।

कल्पना के अनुसार, “ मौलानाओं ने कहा कि आप हमारे मजहब में आएं, अच्छा अनुभव होगा।   आपको अंधविश्वास में रखा गया है। हिंदुओं ने वन-वन भटकने वाले को भगवान बना दिया है। राम एक साधारण इंसान था जिसे भगवान बना दिया गया है।” कल्पना से यह भी कहा गया यदि वह इस्लाम स्वीकार करने के लिए तैयार हो जाती हैं तो उन्हें आर्थिक सहायता भी दी जाएगी। कल्पना के अनुसा स्कूल में मुस्लिम बच्चों के साथ हिन्दू बच्चों को भी नमाज पढ़वाई जाती थी। इन सबको लेकर कल्पना ने 19 मार्च, 2021 को फतेहपुर के सदर कोतवाली थाने में स्कूल प्रशासन के विरुद्ध शिकायत भी दर्ज कराई थी। शिकायत में उन्होंने लिखा है कि हिन्दू बच्चों को उर्दू और अरबी पढ़ाने का विरोध करने पर नूरुल हुदा स्कूल के प्रबंधक शरीफ मौलाना और उसके बेटे उमर शरीफ ने उनके साथ गाली-गलौज की और जान से मारने की धमकी भी दी। शिकायत में यह भी बताया था कि उनका साल भर का 72,000 रुपए वेतन भी नहीं दिया गया और उन्हें स्कूल से निकाल दिया गया। कल्पना सिंह ने आईपीसी की धारा 406, 504 और 506 के तहत शिकायत दर्ज कराई थी।