उत्‍तर प्रदेश में अलकायदा मॉड्यूल का खुलासा, दो आतंकी गिरफ्तार

    दिनांक 12-जुलाई-2021   
Total Views |
उत्‍तर प्रदेश एटीएस के हाथ रविवार को बड़ी सफलता हाथ लगी। एटीएस ने अलकायदा से जुड़े अंसार गजवत-उल-हिंद आतंकी संगठन के दो संदिग्‍ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है। इनकी योजना 15 अगस्‍त से पहले प्रदेश के कई शहरों में विस्‍फोट करने की थी। इनके पास  से भारी मात्रा में विस्‍फोटक बरामद हुए हैं। इनमें करीब आठ किलो विस्‍फोटक, कई पिस्‍तौलें, दो प्रेशर कुकर बम तथा अन्‍य विस्‍फोटकों के साथ प्रतिबंधित सामान भी मिले हैं।
upjj_1  H x W:
आतंकियों की घेराबंदी करते एटीएस कमांडो।

उत्‍तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि एटीएस को लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र के दुबग्गा क्षेत्र में एक गराज में अलकायदा के आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद खोजी अभियान चलाया गया, जिसमें अलकायदा से जुड़ अंसार गजवत-उल-हिंद के दो आतंकियों मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया गया है। लखनऊ सहित प्रदेश के 6 जिले इनके निशाने पर थे। इनकी योजना 15 अगस्त से पहले खास तौर से लखनऊ में महत्वपूर्ण स्थानों, स्मारकों, भीड़-भाड़ वाले इलाकों में फिदायीन हमला करने की योजना थी। इसी के लिए आतंकियों ने भारी मात्रा में हथियार और विस्‍फोटक जमा किए थे। इनके निशाने पर कुछ बड़े नेता भी थे।

11 घंटे चला अभियान
लखनऊ में करीब 11 घंटे चले खोजी के दौरान एटीएस ने गराज के आसपास के करीब 500 मीटर के दायरे में घरों को खाली करा कर इलाके को सील कर दिया। अभियान में एटीएस कमांडो ने तीन घरों की तलाशी भी ली। दोनों आतंकियों के पास से 2 प्रेशर कुकर बम, टाइम बम में प्रयुक्‍त होने वाला 7 किलो विस्‍फोटक, आईडी, हथियार सहित बम बनाने के सामान भी मिले हैं। अकेले मिनहाज के घर से ही चार सूटकेस में गोला-बारूद बरामद हुए हैं। पांच आतंकी अभियान शुरू होने से पहले ही फरार बताए जा रहे हैं। लखनऊ से सटे अन्य जिलों में अलर्ट जारी किया गया है। रायबरेली, सीतापुर, बाराबंकी सीमा पर सघन जांच की जा रही है। गिरफ्तार आतंकियों के तार जम्मू-कश्मीर सीमा पर सक्रिय एक्‍यूआईएस मॉड्यूल से जुड़े हैं। हाल ही में जम्‍मू में हुए एक धमाके में शामिल आतंकियों के लखनऊ में छिपे होने ने की सूचना मिली थी। एटीएस एक सप्‍ताह से आतंकियों को पकड़ने में जुटी हुई थी। एडीजी के मुताबिक, अल-कायदा माड्यूल के सदस्यों में मिनहाज, मसीरुद्दीन व शकील के अलावा लखनऊ और कानपुर के भी कुछ लोग शामिल हैं।


एक आतंकी उन्‍नाव का
एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन प्रशिक्षित आतंकी हैं। मिनहाज के घर में ही मसीरुद्दीन छिपा हुआ था। मिनहाज उन्‍नाव का रहने वाला है। इसके अलावा, रियाज और सिराज के घरों की भी तलाशी ली गई। इस दौरान सभी घरवालों से भी पूछताछ की गई। विस्‍फोटक बरामद होने के बाद मिनहाज के घर को सील कर दिया गया है। मिनहाज, रियाज और सिराज के घर पास-पास हैं। इसके अलावा, लखनऊ के मडियांव से भी एक संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है। एडीजी ने बताया कि अलकायदा ने उमर हलमंडी को भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने को कहा था। हलमंडी, पाकिस्तान और अफगानिस्तान सीमा से आतंकी गतिविधियों का संचालन करता है। वह भारत में एक्‍यूआईस में आतंकियों की भर्ती करता है। इसने लखनऊ में अल-कायदा का माड्यूल भी खड़ा कर लिया था। इसके जरिए देश में आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की तैयारी थी।