असम में भी अब लवजिहाद जैसा कानून, धर्म और मजहब छिपाकर शादी करने वालों पर होगा लागू

    दिनांक 12-जुलाई-2021   
Total Views |
असम में भी लवजिहाद जैसा कानून लाया जाएगा। मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि यह कानून ऐसे लोगों पर नजर रखेगा, जो अपना मजहब छिपाकर लड़कियों से शादी करते हैं
hemant bisw sarma _1 
असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा है कि अगर कोई लड़का अपने बारे में जानकारी छिपाकर कर हिंदू लड़की से विवाह करता है तो भी 'जिहाद' है। धार्मिक और मजहबी पहचान समेत अन्य जानकारी को छिपाकर जो लड़कियों से शादी करते हैं यह कानून उनके लिए लाया जाएगा
यह कानून हिंदुओ और मुसलमानों, सभी पर एक समान लागू होगा। बता दें कि असम में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने का वादा किया किया है। घोषणा पत्र में कहा गया था कि भाजपा चुनाव जीतने के बाद सत्ता में आते ही 'लव जिहाद' और 'लैंड जिहाद' के खिलाफ कानून बनाएगी।
बता दें कि अभी उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, गुजरात, झारखंड, ओडिशा, राजस्थान, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसके लिए कानून हैं। इनमें हिमाचल, उत्तराखंड और राजस्थान में पांच साल तक कैद की सजा का प्रावधान है।
एसी—एसटी और नाबालिग के मामले में ये सजा सात साल की है। उत्तर प्रदेश में भी इसके लिए कानून बन चुका है। इसका अध्यादेश पिछले महीने ही कैबिनेट में पास हुआ है। इस कानून में जबरन कन्वर्जन करने पर 10 साल तक की सजा का प्रावधान है।