असम विधानसभा में पेश हुआ गो संरक्षण विधेयक

    दिनांक 13-जुलाई-2021   
Total Views |
मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा ने मवेशियों के संरक्षण के लिए सोमवार को विधानसभा में एक नया विधेयक पेश किया। इस विधेयक के तहत हिंदुओं, जैन, सिख बहुल्य इलाकों और गोमांस नहीं खाने वाले अन्य समुदायों वाले क्षेत्रों में गोमांस की खरीद और बिक्री पर प्रतिबंध का प्रावधान है

hemant biswa _1 &nbs
 
असम में भारतीय जनता पार्टी के शासन वाली सरकार ने विधानसभा में पशुओं को लाने ले जाने पर पाबंदी लगाने वाले असम पशु संरक्षण विधेयक को प्रस्तुत कर दिया।
असम पहला ऐसा पूर्वोत्तर का राज्य है जहां पर गो—हत्या पर पाबंदी लगाने का प्रस्ताव सामने आया है । बता दें  असम 14 फ़ीसदी मुस्लिम आबादी वाला राज्य है। पूर्वोत्तर भारत में बीफ व्यापक रूप से खाया जाता है। इस कानून का उद्देश्य असम से बांग्लादेश में गायों की तस्करी को भी नियंत्रित करना है। विधेयक में राज्य के बाहर मवेशियों के परिवहन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है।
बता दें इस क्षेत्र में मुस्लिम आबादी के साथ-साथ बड़ी आबादी में ईसाई भी रहते हैं। इस विधेयक के तहत अनधिकृत रूप से पशु वध करने पशुओं को लाने ले जाने और उनकी बिक्री पर जेल की सजा 6 महीने से बढ़ाकर 8 साल कर दी गई है और इसके लिए जुर्माने का प्रावधान भी किया गया है।