नाइजीरिया : इस्लामी आतंकियों ने जलाए चर्च, गोलियों से भून दिया 18 लोगों को

    दिनांक 14-जुलाई-2021   
Total Views |
नाइजीरिया में बोको हराम से जुड़े इस्लामी जिहादी गुटों का आतंक बढ़ता जा रहा है। आएदिन नरसंहार रचे जा रहे हैं
nai_1  H x W: 0
एक इस्लामी जिहादी   (प्रतीकात्मक चित्र)

रायटर्स के हवाले से प्राप्त हुए समाचार के अनुसार, पिछले दिनों संदिग्ध इस्लामी जिहादियों ने उत्तर पूर्व नाइजीरिया में एक गांव पर हमला करके वहां दो चर्च जला दिए और करीब 18 लोगों की हत्या कर दी। दो प्रशासनिक अधिकारियों ने समाचार एजेंसी रायटर्स को घटना की जानकारी देते हुए बताया कि गत 8 जुलाई को अदामावा राज्य के अंतर्गत हांग प्रशासकीय इलाके के पास दाबना गांव में इस्लामी जिहादियों ने हमला बोला था।

हांग प्रशासकीय इलाके के अध्यक्ष जेम्स पुकुमा ने रायटर्स को बताया कि मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए बंदूकधारियों के जत्थे ने 18 लोगों की हत्या कर दी, जबकि कई लोग उन्हें गांव में आता देखकर पहले ही भाग खड़े हुए थे।

अदामा राज्य आपातकालीन एजेंसी के अध्यक्ष मोहम्मद अमीनू के अनुसार, हमलावरों ने एक स्थानीय निवासी का घर और दो चर्च फूंक डाले। दहशत में डूबे गांव वालों ने बताया कि उनके गांव में नरसंहार मचाने के बाद, हत्यारे पड़ोस के गांवों, क्वापरे और गर्का की ओर बढ़ गए। वहां भी उन्होंने कुछ लोगों को गोली मार दी और अनेक लोगों को घायल कर दिया।

nai_1  H x W: 0
हमले की जानकारी देता रायटर्स का ट्वीट

हांग प्रशासकीय इलाके के अध्यक्ष जेम्स पुकुमा ने रायटर को बताया कि मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए बंदूकधारियों के जत्थे ने 18 लोगों की हत्या कर दी, जबकि कई लोग उन्हें गांव में आता देखकर पहले ही भाग खड़े हुए थे। 

नाइजीरिया में इस्लामी आतंकवादियों का कहर लगातार बढ़ रहा है। वहां वे गड़रिया समुदाय के माने जाते हैं जिनका कन्वर्टिड ईसाइयों से छत्तीस का आंकड़ा है। कुछ—कुछ अंतराल पर वहां दूरस्थ गांवों पर धावा बोलकर ये इस्लामी जिहादी खौफ पैदा करने के लिए बड़े पैमाने पर तबाही मचाते हैं, ईसाइयों को मारते हैं और भाग खड़े होते हैं। पिछले दिनों ऐसी ही एक घटना में आतंकियों ने एक गांव के चर्च में घुसकर एक पादरी और उसके 4 साल के बेटे की हत्या कर दी थी।

नाइजीरिया में लगातार देखने में आ रहीं ऐसी घटनाओं को लेकर पश्चिमी देश चिंतित हैं। अमेरिका में तो इस दुर्भाग्यपूर्ण चलन पर कई अध्ययन किए गए हैं, जिनमें अब तक हजारों ग्रामीणों के इस तरह मारे जाने की बात की गई है।