अफगानिस्तान : उपराष्ट्रपति का बड़ा बयान: तालिबान पर कार्रवाई करने से रोक रही पाकिस्तानी वायुसेना

    दिनांक 17-जुलाई-2021   
Total Views |
 
amrullah_1  H x
 उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह
उपराष्ट्रपति सालेह के अनुसार, "पाकिस्तान की वायुसेना ने अफगानी सेना और वायुसेना को बाकायदा चेतावनी जारी की कि 'स्पिन बोल्डक' इलाके से तालिबान को निकालने की कैसी भी कोशिश पर उससे निपटना होगा।" एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा, "साथ ही, 215 कोर के हमारे जांबाज कमांडो ने निमरोज के चखनसौर जिले को फिर से अपने काबू में ले लिया है, सभी तालिबानियों को मार डाला गया है और पिछले हफ्ते हाथ से निकले 10 एपीसी को फिर से कब्जे में ले लिया है। अफगानिस्तान बहुत बड़ा है, इसे निगलने की हिम्मत नहीं है पाकिस्तान में।'' अमरुल्ला ने पाकिस्तान की वायुसेना पर तालिबानियों के पाले में खड़े होने का आरोप लगाकर दुनिया के सामरकि विशेषज्ञों को हैरान कर दिया 
अफगनिस्तान में तालिबानियों के खिलाफ कार्रवाई के बीच अफगानी उपराष्ट्रपति ने पाकिस्तान की पोल एक बार फिर से खोली है। उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने यह कहकर सबको चौंका दिया है कि पाकिस्तानी वायुसेना उनके देश को तालिबान के विरुद्ध कार्रवाई करने से रोक रही है। अभी हाल में, अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति सालेह ने अपने ट्वीट में लिखा कि पाकिस्तान की वायुसेना कुछ इलाकों में तालिबान लड़ाकों को आसमान से मदद पहुंचा रही है।
पाकिस्तान पर आतंक को शह देने, जिहादियों का साथ देने के खुलासे आएदिन होते रहे हैं। इस बीच जिहादी शिविरों को पनाह देने वाले पड़ोसी पाकिस्तान पर एक और गंभीर आरोप लगा है। अफगानिस्तान को फिर से अपने पाषाणयुगीन पाश में लेने को आतुर तानिबानियों के खिलाफ जहां सभ्य दुनिया एक पाले हैं, तो पाकिस्तान उन तालिबानी मुल्लाओं के पाले में दिख रहा है जो अफगानिस्तान को एक बार फिर कट्टरपंथ की आग में झोंक देने पर तुले हुए हैं। वे अपने हत्यारों के बूते फिर से अफगानिस्तान पर अपनी पकड़ मजबूत करने को अत्याचार की सभी सीमाएं लांघ रहे हैं। और इस सबमें पाकिस्तान का खास हाथ होने के प्रमाण सामने लाए जा रहे हैं।

twein_1  H x W: 
सालेह का ट्वीट जिसमें उन्होंने पाकिस्तानी वायुसेना की उनके देश को धमकी का जिक्र किया है 
तालिबान से छुड़ाए 10 एपीसी
उपराष्ट्रपति सालेह के अनुसार, "पाकिस्तान की वायुसेना ने अफगानी सेना और वायुसेना को बाकायदा चेतावनी जारी की कि 'स्पिन बोल्डक' इलाके से तालिबान को निकालने की कैसी भी कोशिश पर उससे निपटना होगा।" एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा, "साथ ही, 215 कोर के हमारे जांबाज कमांडो ने निमरोज के चखनसौर जिले को फिर से अपने काबू में ले लिया है, सभी तालिबानियों को मार डाला गया है और पिछले हफ्ते हाथ से निकले 10 एपीसी को फिर से कब्जे में ले लिया है। अफगानिस्तान बहुत बड़ा है, इसे निगलने की हिम्मत नहीं है पाकिस्तान में।'' पाकिस्तानी वायुसेना आज तालिबान को हवाई मदद दे रही है।
अफगानिस्तान से अमेरिकी और नाटो सेनाओं की वापसी के साथ ही तालिबान अफगान सेना के हाथ से बाहर होते जा रहे हैं। लड़ाकों ने कंधार के अपने पुराने ठिकाने के अलावा एक तिहाई जिलों पर कब्जे का दावा किया है। पिछले दिनों उन्होंने पाकिस्तान के साथ लगते अफगानिस्तान के प्रमुख सीमा पारगमनों में से एक पर कब्जा कर लिया। रॉयटर्स की खबर है कि यह उनके बेहद महत्वपूर्ण उद्देश्यों में से एक था।
पाकिस्तान ने भेजे 10,000 जिहादी
एक और चिंताजनक खबर यह है कि पाकिस्तान ने तालिबान की मदद के लिए 10 हजार जिहादियों को रवाना किया है। ये जिहादी जैशे मोहम्मद और लश्करे तोयबा गुटों के बताए जा रहे हैं। अफगानिस्तान के गांवों, शहरों को कब्जाने, वहां हैवानियत का नंगा नाच करने में ये आतंकी तालिबानियों का हाथ बंटाएंगे। वे वहां अफगान सेना के खिलाफ मोर्चा भी संभालेंगे। यानी आगे वाले वक्त में जंग और तेज होने के आसार हैं। विभिन्न देशों के बीच अंतरराष्ट्रीय संगठनों के इस समस्या पर फौरन विचार करने का वक्त आ चुका है। क्या इस तरफ कोई पहल की जाएगी?