चीन: शिन्हुआ ने माना: गलवान में भारतीय जवानों ने घेर लिया था चीनी सैनिकों को

    दिनांक 21-जुलाई-2021   
Total Views |

ड्रेगन को आखिर यह मानना पड़ा कि पिछले साल जून में गलवान में उसके सैनिक भारतीय सैनिकों से घिर गए थे
cheen_1  H x W:
गलवान संघर्ष (फाइल चित्र)

चीन के सरकारी प्रभाव वाले मीडिया समूह शिन्हुआ ने आखिरकार गलवान का एक और सच सामने रखा है। उसने हाल में बताया है कि गलवान घाटी के संघर्ष में भारत के सैनिकों से चीन के कई जवान घिर गए थे, उनमें रेजीमेंट कमांडर की फाबाओ भी था।

उल्लेखनीय है कि पिछले साल जून में लद्दाख सीमा पर गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन करके भारतीय सैनिकों पर हमला बोला था। उस झड़प में भारत के 20 सैनिकों ने बलिदान दिया था लेकिन चीन के सैनिक कहीं ज्यादा तादाद में मारे गए थे। लेकिन अब शिन्हुआ में चीन के सैनिकों घिरने की बात सामने आने का अर्थ है कि कम्युनिस्ट सत्ता ने यह स्वीकार किया है कि उसकी आतताई टुकड़ी को भारत के जांबाज जवानों ने बुरी तरह से घेर लिया था और उनमें ड्रेगन की सेना का कमांडर भी था।

ग्लोबल टाइम्स ने भी शिन्हुआ की रिपोर्ट के आधार पर छापा कि चेन होंगजुन तथा दूसरे चीनी अफसरों और सैनिकों ने गलवान झड़प में अपनी जान गंवाई थी। रिपोर्ट की मानें तो 33 साल का बटालियन कमांडर चेन होंगजुन भी उस झड़प में अपने चार फौजियों के साथ हलाक हुआ था। ये जवान पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की सिंक्यांग सैन्य कमांड के तहत तैनात थे। 

गलवान की घाटी में यह झड़प इतनी भीषण थी कि सैकड़ों सैनिकों में दो—दो हाथ हुए थे। चीन की ओर से सीमा संधि का उल्लंघन करते हुए, नुकीले हथियार प्रयोग किए गए थे। भारत के जवान निहत्थे थे लेकिन फिर भी उन्होंने, एक रपट के अनुसार, करीब 120 चीनी सैनिकों को हलाक किया था। लेकिन तब शिन्हुआ ने यह संख्या कहीं कम बताई थी और कमांडर के ऐसे घिर जाने की बात दबा दी गई थी।

लेकिन अब 19 जुलाई को शिन्हुआ के माध्यम से चीन ने यह माना है कि पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारतीय जवान चीनी सैनिकों पर भारी पड़े थे। याद रहे, उस घटना के पांच महीने बाद यानी फरवरी में ड्रेगन ने गलवान घाटी में मारे गए अपने जवानों की संख्या चार बताई थी। लेकिन अब चीन का कहना है कि भारतीय जवानों के हाथों चार नहीं पांच सैनिक मारे गए थे।

इधर चीन के ही सरकारी अखबार माने जाने वाले ग्लोबल टाइम्स ने भी शिन्हुआ की रिपोर्ट के आधार पर छापा कि चेन होंगजुन तथा दूसरे चीनी अफसरों और सैनिकों ने गलवान झड़प में अपनी जान गंवाई थी। रिपोर्ट की मानें तो 33 साल का बटालियन कमांडर चेन होंगजुन भी उस झड़प में अपने चार फौजियों के साथ हलाक हुआ था। ये जवान पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की सिंक्यांग सैन्य कमांड के तहत तैनात थे।
जैसा पहले बताया, भारतीय रक्षा सूत्रों का कहना है कि चीन की तरफ से मरने वालों की संख्या चीन की बताई संख्या से कहीं ज्यादा है।