चौरासी कोसी परिक्रमा अब राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित

    दिनांक 22-जुलाई-2021   
Total Views |
अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा मार्ग  को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किया गया है.  केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर बताया कि अयोध्या में करीब 80 कि.मी. की रिंग रोड और 275 कि.मी. की अयोध्या चौरासी कोसी परिक्रमा मार्ग, अब नेशनल हाईवे के अंतर्गत बनेगा.  अयोध्या में 84 कोसी परिक्रमा करने वालों को फोरलेन मार्ग की सुविधा मिलेगी. 275.35 किलोमीटर की चौरासी कोसी परिक्रमा, अयोध्या, अम्बेडकर नगर, बाराबंकी, गोंडा एवं बस्ती जनपद से गुजरती है. राष्ट्रीय राजमार्ग बनने से  रायबरेली, अयोध्या एवं सुलतानपुर जनपद के लोग भी सीधे जुड़ जाएंगे.
hh_1  H x W: 0

उल्लेखनीय है कि परिक्रमा मार्ग अयोध्या, अंबेडकर नगर से होकर बाराबंकी, गोंडा और फिर बस्ती जनपद में पहुंचती है. वहां से मखौड़ा धाम होते हुए फिर अयोध्या पहुंचती है. अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा है कि “ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में 'चौरासी कोसी परिक्रमा मार्ग' को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने के लिए अधिसूचना जारी होना अयोध्या के पुरातन गौरव की पुनर्स्थापना के लिए बढ़ाया गया बड़ा कदम है. यह आध्यात्मिक पर्यटन क्षेत्र को संबल प्रदान करेगा.”


 बता दें कि चौरासी कोसी, चौदह  कोसी और पंचकोसी परिक्रमा में आने वाले सभी ऐसे स्थलों का सुंदरीकरण, परिक्रमा करने वाले श्रद्धालुओं के लिए जगह-जगह छाजन के साथ अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था, पैदल परिक्रमा करने वालों के लिए मार्ग आदि का निर्माण कार्य कराया जा रहा है. प्रदेश सरकार ने मखौड़ा जैसे प्रमुख स्थलों के विकास के लिए अलग से भी कार्ययोजना तैयार की है. बस्ती जनपद के हर्रैया तहसील स्थित मखौड़ा धाम में राजा दशरश ने अपने गुरु वशिष्ठ और श्रृंगी ऋषि के मार्गदर्शन में पुत्रकामेष्टि यज्ञ का आयोजन किया था. अलग-अलग परिक्रमा मार्ग पर ऐसे और भी कई पौराणिक स्थान हैं जिनका भगवान श्रीराम से संबंध है. ऐसे सभी स्थानों का विकास किया जा रहा है.


आवास विभाग ने रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) जारी किया है. विश्व स्तरीय सलाहकार द्वारा अयोध्या के विकास का जो मॉडल तैयार किया जाएगा,  आवास विभाग उसके आधार पर विकास प्राधिकरण के माध्यम से काम कराएगा. अयोध्या आने वाली रेलवे लाइन का दोहरीकरण के साथ भविष्य की जरूरतों के अनुसार रेलवे स्टेशन का सुंदरीकरण और विस्तारीकरण होना प्रस्तावित है. अयोध्या से सुल्तानपुर राष्ट्रीय राजमार्ग  से एयरपोर्ट तक चार लेन की सड़क का नवनिर्माण होना है. राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, अयोध्या धाम से बाईपास के लिए सोहावल से विक्रमजोत तक का प्रस्ताव बना रहा है. करीब 1500 करोड़ रुपये की लागत से रायबरेली से अयोध्या तक चार लेन की सड़क के चौड़ीकरण का कार्य भी होना है. सरयू की अविरलता और निर्मलता बरकरार रखने के लिए वहां आधुनिकतम सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाएंगे.