तिब्बत के निर्वासित नेता का आरोप, ‘सांस्‍कृतिक नरसंहार’ के जरिए तिब्‍बत की पहचान नष्‍ट कर रहा चीन

    दिनांक 23-जुलाई-2021   
Total Views |
तिब्बत की निर्वासित सरकार के नए नेता पेन्पा त्सेरिंग ने तिब्बत की पहचान को नष्ट करने के लिए बीजिंग की आलोचना की है। उन्होंने अमेरिका और अन्य लोकतांत्रिक ताकतों से बीजिंग का मुकाबला करने के लिए एकजुट होने का भी आह्वान किया।
hhh_1  H x W: 0
तिब्बत की निर्वासित सरकार के नए नेता पेन्पा त्सेरिंग

निक्‍केई एशिया की रिपोर्ट के अनुसार, मई के अंत में त्सेरिंग निर्वासित तिब्बती सरकार के नए राष्‍ट्रपति बने, जो उत्तर भारतीय शहर धर्मशाला में स्थित है। त्सेरिंग ने कहा, "तिब्‍बत में बड़ी संख्‍या में चीनी आ रहे हैं। बहुसंख्यक समुदाय हमारे अल्पसंख्यक समुदाय पर पूरी तरह से हावी हो रहा है और हमारी पहचान को नष्ट कर रहा है, जो निश्चित रूप से एक सांस्कृतिक नरसंहार के बराबर है जैसा है।"

उन्होंने तिब्बती बौद्ध मठों में निगरानी कैमरे लगाने की ओर इशारा करते हुए कहा कि "तिब्बती बौद्धों की धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन किया जा रहा है। चीन एकमात्र ऐसा देश है, जो बाहरी सुरक्षा की तुलना में आंतरिक सुरक्षा पर अधिक पैसे खर्च करता है। वह सारा पैसा अल्‍पसंख्‍यकों के खिलाफ दमनकारी उपायों पर खर्च करता है।"

त्‍सेरिंग ने जून में इंग्लैंड के कॉर्नवाल में आयोजित शिखर सम्मेलन में सात प्रमुख औद्योगिक देशों के समूह के नेताओं के एक संयुक्त बयान की भी सराहना की, जिसमें चीन में मानवाधिकारों के मुद्दों का उल्लेख किया गया था।
तिब्बत की निर्वासित सरकार के नए नेता पेन्पा त्सेरिंग