लालू यादव फिर से जा सकते हैं जेल

    दिनांक 25-जुलाई-2021   
Total Views |
 lalu_1  H x W:
राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और चारा घोटाले के दोषी लालू यादव एक बार फिर से जेल जा सकते हैं। इन दिनों रांची में इस घोटाले के अंतिम मामले की सुनवाई चल रही है। इसलिए लोग आशंका व्यक्त करने लगे हैं कि लालू के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं।
एक सामाचर के अनुसार एक बार फिर से रांची उच्च न्यायालय में चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले डोरंडा कोषागार की सुनवाई शुरू हो गई है। कोरोना महमारी के कारण सुनवाई बंद हो गई थी। उम्मीद की जा रही है कि इस पर जल्दी ही निर्णय आने वाला है। यह निर्णय चारा घोटाले के अनेक मामलों में सजा काट रहे और इन दिनों जमानत पर बाहर रह रहे लालू यादव के लिए संकट पैदा कर सकता है।
139.5 करोड़ रुपए के डोरंडा कोषागार मामले में वर्चुअल सुनवाई हो रही है। करीब दो महीने से इस मामले की सुनवाई बंद थी। सीबीआई इस मामले में काफी पहले ही लालू यादव के अलावा 100 से अधिक आरोपितों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है। इस मामले में बचाव पक्ष की गवाही भी पूरी हो चुकी है। अब मामले में बहस चल रही है। इस मामले की सुनवाई कर रहे न्यायाधीश का स्थानान्तरण हो चुका है, लेकिन सुनवाई पूरी होने तक उनके लिए रांची में ही रहने की व्‍यवस्‍था की गई है। संकेत साफ है कि इस मामले में बहुत जल्दी निर्णय आ सकता है। अब तक चारा घोटाले के अनेक मामलों में लालू को सजा मिल चुकी है और उम्मीद है कि इस मामले में भी उन्हें सजा मिल सकती है। यानी उन्हें एक बार फिर से जेल की हवा खानी पड़ सकती है।
इस कारण लालू यादव और उनके समर्थकों की चिंता बढ़ गई है। बता दें कि पिछले अप्रैल में जमानत मिलने के बाद से वे दिल्ली में रह रहे हैं। अभी तक वे एक बार भी पटना नहीं गए हैं। ऐसे एक बात यह भी है कि लालू यादव बीमारी की आड़ में जेल में कम रहते हैं और अस्पताल में ज्यादा। वे लगभग दो साल से रांची के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में सभी नियमों को ताक पर रखकर रह रहे थे। ऐसा माना जाता है कि झारखंड सरकार ने एक कैदी के लिए जो नियम होते हैं, उनकी अनदेखी कर लालू को रिम्स में एक मेहमान की तरह रहने की छूट दे दी थी। बहाना बनाया गया बीमारी का। इस वर्ष मार्च में लालू की तबीयत कुछ ज्यादा खराब हुई तो न्यायालय के आदेश पर उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। यहां रहते हुए ही उन्हें जमानत मिली है। इसके बाद से वे दिल्ली में ही रह रहे हैं।