टोक्यो ओलंपिक : सिंधू, मैरीकॉम और मनिका अगले दौर में

    दिनांक 26-जुलाई-2021
Total Views |

टोक्यो ओलंपिक का दूसरा दिन भारतीय खिलाड़ियों के लिए मिला-जुला रहा। महिला खिलाड़ियों ने जहां मीराबाई चानू के पदक जीतने से बने उत्साह को कायम रखा, वहीं निशानेबाजी और लॉन टेनिस में निराशा का सामना करना पड़ा। पीवी सिंधू, मैरीकॉम और मनिका बत्रा ने अपने मुकाबले जीत कर आगे की राह बनाई।


मैरीकॉम_1  H x  

प्रवीण सिन्हा

टोक्यो ओलंपिक के पहले ही दिन मीराबाई चानू ने रजत पदक जीत जो इतिहास रचा था, उस सिलसिला को भारतीय खिलाड़ी रविवार को जारी नहीं रख सके। पदकों की सबसे बड़ी आस निशानेबाजी से थी जिसमें लगातार दूसरे दिन निराशा मिली। अलबत्ता भारतीय खेमे में विशेषकर महिला खिलाड़ियों में, चानू की सफलता का असर जरूर दिखा। बैडमिंटन स्टार व 2016 रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पी. वी. सिंधू और 2012 लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता महिला मुक्केबाज एम.सी. मैरीकॉम ने पहले दौर का मुकाबला जीत अपना अभियान शुरू किया, जबकि मनिका बत्रा ओलंपिक खेलों में महिला टेबल टेनिस की एकल स्पर्धा के तीसरे दौर में प्रवेश पाने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गईं।

मैरीकॉम के दमदार पंच

भारत की स्टार मुक्केबाज मैरीकॉम ने महिला मुक्केबाजी के 51 किग्रा भारवर्ग में डोमनिका रिपब्लिक की हर्नांडेज गार्सिया को 4-1 से हराकर भारतीय ध्वज बुलंद रखा। इस जीत के साथ मैरीकॉम ने अंतिम 16 में जगह बना ली है। रिकॉर्ड 6 बार की विश्व चैंपियन मैरीकॉम ने अब तक करीबन सारे अंतरराष्ट्रीय खिताब जीते हैं। इस बार उनकी नजर ओलंपिक स्वर्ण पदक पर है और पहले ही दौर में उन्होंने युवा प्रतिद्वंद्वी पर ताबड़तोड़ मुक्के बरसाते हुए अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं।


पी.वी. सिंधू_1   
दूसरी ओर, महिला बैडमिंटन में पी.वी. सिंधू ने इजरायल की सेनिया पोलिकारपोवा पर 21-7, 21-10 पर आसान जीत दर्ज कर अपना अभियान शुरू किया। पुरुष वर्ग में मुकेश कौशिक को पहले ही दौर में हार का सामना करना पड़ा।

मनिका का ऐतिहासिक प्रदर्शन


मनिका बत्रा_1   

महिला टेबल टेनिस की एकल स्पर्धा में मनिका बत्रा ने दमदार वापसी करते हुए तीसरे दौर में प्रवेश किया। विश्व वरीयता क्रम में 63वें नंबर की खिलाड़ी मनिका ने 32वीं रैंकिंग की उक्रेन की खिलाड़ी मार्गरेटा पेसोत्सका से शुरुआती दो गेम हारने के बावजूद 4-3 से जीत दर्ज कर बड़ा उलटफेर किया। अब मनिका ओलंपिक पदक से महज एक कदम दूर हैं। हालांकि पुरुष वर्ग में विश्व के 37वें नंबर के खिलाड़ी जी. सथियन 3-1 की बढ़त लेने के बावजूद सिंगापुर के लाम सियू हांग के हाथों 3-4 से हारकर मुकाबले से बाहर हो गए।

फिर चूके निशाने

निशानेबाजों ने लगातार दूसरे दिन निराश किया। विश्व वरीयता क्रम में शीर्ष दो स्थानों पर मौजूद मनु भाकर और यशस्विनी देसवाल महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल दौर में भी जगह नहीं बना सकीं। हालांकि मनु की बदकिस्मती रही कि क्वालीफाइंग दौर में उनकी पिस्टल में कुछ तकनीकी खराबी आ गई और उन्हें मुकाबले के बीच में ही उसे ठीक कराना पड़ा। निर्धारित समय पर अपने निशाने साधने का दबाव मनु पर साफ दिखा और वह 575 अंकों सहित 12वें स्थान पर और यशस्विनी 13वें स्थान पर पिछड़ गईं।

दूसरी ओर, पहली बार ओलंपिक खेलों में भाग ले रहे दीपक कुमार पुरुषों की 10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में 624.7 अंकों सहित 26वें स्थान पर पिछड़ गए, जबकि दिव्यांश सिंह 32 स्थान पर रहे।

सानिया-अंकिता की जोड़ी हारी

संभवतः अपना अंतिम ओलंपिक खेल रहीं सानिया मिर्जा के लिए आज का दिन निराशाजनक रहा। महिला टेनिस युगल मुकाबले में सानिया व अंकिता रैना की जौड़ी उक्रेन की नादिया व लुडमिला किकनॉक के हाथों 6-0, 6-7, 8-10 से हारकर टोक्यो ओलंपिक से बाहर हो गईं। उक्रेन की जुड़वां बहनें हार के कगार पर पहुंचने के बाद जबरदस्त वापसी करते हुए भारतीय जोड़ी को निराश किया।

पुरुष हॉकी टीम धराशायी

टोक्यो ओलंपिक के पहले दिन न्यूजीलैंड पर शानदार जीत दर्ज करने के बाद आज भारतीय पुरुष टीम आस्ट्रेलिया के सामने बुरी तरह से बिखरी नजर आई। ग्रुप मुकाबले में आस्ट्रेलिया ने भारत को 7-1 से हराकर अपना अभियान जारी रखा। पदक की दौड़ में बने रहने के लिए भारत को अपने अन्य ग्रुप मैचों में बेहतर प्रदर्शन करना होगा।