कोरोना को रोकने में पिछड़ा केरल, दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मामले

    दिनांक 09-जुलाई-2021   
Total Views |
देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मामलों में कमी तो आई है लेकिन अब तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है। दरअसल केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में आ रहे कोरोना के नए मामलों ने इस चिंता को बढ़ा दिया है

corona _1  H x
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक जिन राज्‍यों में मामले बढ़ रहे हैं उनमें केरल (11414 नए मामले), महाराष्‍ट्र (8815 नए मामले), तमिलनाडु (3565 नए मामले), आंध्र प्रदेश (3461 नए मामले), कर्नाटक (3342 नए मामले) , असम (2946 नए मामले), ओडिशा (2896 नए मामले), पश्चिम बंगाल (1490 नए मामले) और तेलंगाना (993 नए मामले) का नाम शामिल है।
चिंता की बात यह है कि यहां पर केवल नए मामले ही नहीं बढ़े हैं बल्कि इनमें पॉजिटिविटी रेट भी अधिक रहा है। इसको देखते हुए केंद्र ने अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, केरल, असम, मेघालय, त्रिपुरा, सिक्किम और ओडिशा को पत्र लिखकर उन्‍हें इस बाबत आगाह किया है। आपको बता दें कि इनमें से कुछ राज्‍यों में बढ़ते मामलों के चलते जुलाई की शुरुआत में ही केंद्र ने अपनी टीमें भेजी थीं।
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण की तरफ से लिखे गए इस खत में इन राज्‍यों को महामारी की रोकथाम के लिए सलाह और दिशा-निर्देश भी दिए गए हैं। इसमें इन राज्‍यों में बढ़ते मामलों पर चिंता व्‍यक्‍त करते हुए कहा गया है कि यहां पर पॉजिटिविटी रेट 10 फीसद से अधिक है। केंद्र की तरफ से लिखे गए इस खत में 28 जून से 4 जुलाई के बीच बढ़े मामलों के बारे में भी जानकारी दी गई है। केंद्र ने इस खत के माध्‍यम से इन राज्‍यों को वैक्‍सीनेशन में तेजी लाने का आग्रह किया है।