मुंबई में भाजपा की जन आशीर्वाद यात्रा, दो दिन में 36 मामले दर्ज

    दिनांक 21-अगस्त-2021   
Total Views |
मुंबई के विभिन्‍न हिस्‍सों में भाजपा द्वारा निकाली जा रही जन आशिर्वाद यात्रा पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्‍लंघन करने के आरोप में शनिवार को 17 नए मामले दर्ज किए गए। इससे पहले शुक्रवार तक 19 मामले दर्ज किए जा चुके थे।
imag14_1  H x W 
महाराष्‍ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार भाजपा के विरुद्ध धड़ाधड़ मुकदमे दर्ज कर रही है। मुंबई पुलिस ने नवनियुक्‍त केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के समर्थन में भाजपा मुंबई के विभिन्‍न हिस्‍सों में जन आशिर्वाद यात्रा निकाल रही है। इस पर कोविड-प्रोटोकॉल का उल्‍लंघन करने के आरोप में मुंबई पुलिस ने सिर्फ शनिवार को ही 17 नए मामले दर्ज किए। इससे पहले शुक्रवार तक 19 मामले दर्ज किए जा चुके थे। इस तरह भाजपा की यात्रा पर दो दिनों में ही 36 दर्ज किए जा चुके हैं।
महाराष्‍ट्र सरकार द्वारा ये मामले भाजपा नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं के विरुद्ध मुंबई के विभिन्‍न पुलिस थानों में दर्ज कराए गए हैं। शनिवार को नए 17 मामले मुंबई मुलुंड, घाटकोपर, विक्रोली, भांडुप, पंतनगर, खार, सांताक्रुज, पवई, एमआईडीसी, साकी नाका, मेघवाड़ी, गोरेगांव, चारकोप, बोरीवली और एमएचबी पुलिस थानों में दर्ज कराए गए हैं। नारायण राणे ने मुंबई पुलिस की निषेधाज्ञा के बावजूद गुरुवार यानी 19 अगस्‍त से जन आशिर्वाद यात्रा शुरू की थी। एक अधिकारी के मुताबिक, शुक्रवार को आयोजित रैली में केंद्रीय मंत्री नारायण राणें के अलावा महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, प्रवीण दारेकर और भाजपा के अन्‍य नेताओं ने भाग लिया था। एक अधिकारी ने बताया था कि शुक्रवार को विले पार्ले, खेरवाड़ी, माहिम, शिवाजी पार्क, दादर, चेंबूर और गोवंडी थानों में भादंसं की धारा 188 (लोक सेवक के आदेश की अवहेलना) के साथ आपदा प्रबंधन अधिनियम और मुंबई पुलिस अधिनियम के तहत 19 मामले दर्ज किए गए। बता दें कि नवनियुक्त केंद्रीय मंत्रियों का परिचय कराने के लिए भाजपा की ओर से यह यात्रा आयोजित की गई थी। महाराष्ट्र सरकार का कहना है कि अभी राज्य में दूसरी लहर पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है।
विपक्षी दलों के नेता राज्‍य में जारी महामारी के बीच भाजपा की यात्रा को लेकर हमलावर हैं। एक दिन पहले यानी 20 अगस्‍त को कांग्रेस नेता अशोक चव्‍हाण और भाई जगताप ने राज्‍य में महामारी की स्थिति की अवहेलना करने और रैली आयोजित करने के लिए भाजपा की खिंचाई की थी। साथ ही, शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने भाजपा के उन आरोपों का खंडन किया था कि महाराष्‍ट्र सरकार उनकी पार्टी को निशाना बना रही है। उनका कहना था कि सभी लोगों को, चाहे राजनेता ही क्‍यों न हों, कोविड-19 के दिशानिर्देशों के बाजवूद का पालन करना चाहिए। राणे ने शुक्रवार को राज्य में महामारी की स्थिति से निपटने में विफल रहने के लिए महाराष्ट्र सरकार की निंदा करते हुए कहा कि वह अपनी यात्रा के खिलाफ प्राथमिकी के बावजूद रैली जारी रखेंगे।