श्रीराम मंदिर संघर्ष पर आधारित पुस्तक की पहली प्रति प्रधानमंत्री मोदी को की भेंट, केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट और कुमार सुशांत ने लिखी है किताब

    दिनांक 01-सितंबर-2021   
Total Views |


अयोध्या में प्रभु श्रीराम मंदिर संघर्ष पर गहन शोध पर आधारित पुस्तक का लेखन भारत सरकार में रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट तथा कुमार सुशांत ने किया है। पुस्तक की पहली प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को श्री अजय भट्ट ने भेंट की।

modi_1  H x W:

अयोध्या
में प्रभु श्रीराम मंदिर संघर्ष पर गहन शोध पर आधारित पुस्तक का लेखन भारत सरकार में रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट तथा कुमार सुशांत ने किया है। पुस्तक की पहली प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को श्री अजय भट्ट ने भेंट की।

बता दें कि पुस्तक का हिन्दी के अलावा 10 अन्य अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में अनुवाद हो रहा है तथा इसका 21 देशों में विमोचन किया जाना है। इसी विषय को लेकर केंद्रीय राज्य मंत्री अजय भट्ट एवं कुमार सुशांत प्रधानमंत्री से मिले और इसके बारे में श्री मोदी को विस्तृत जानकारी दी।प्रधानमंत्री मोदी ने इस ऐतिहासिक पुस्तक के लेखन-कार्य की सराहना करते हुए कहा कि यह काफी अच्छा प्रयास है। उन्होंने इस विषय पर अपना मार्गदर्शन भी दिया।

केंद्रीय राज्य मंत्री अजय भट्ट ने कहा कि पुस्तक में अयोध्या में श्रीराम मंदिर संघर्ष के अलावा भारतीय भाषाओं में रामकथा समेत भगवान राम, मां सीता तथा प्रभु के मानव कल्याण संदेशों पर आधारित आलेखों को विशेष तौर पर संग्रहित किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में भारत ने विश्व गुरु बनने की तरफ द्रुत गति से कदम बढ़ाए हैं और उनके मार्गदर्शन में जब हम इस पुस्तक का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसार करेंगे, तो निस्संदेह इस पुनीत कार्य से भारत की गौरव-गाथा, संस्कृति और भगवान के मानव-कल्याण संदेश के प्रसार में एक और अध्याय जुड़ेगा। इससे आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा मिल सकेगी।

श्री भट्ट ने कहा कि प्रधानमंत्री जी से मिले मार्गदर्शन के बाद इस पुस्तक को एक नई दिशा मिलेगी। पुस्तक की सामग्री के विषय में जानकारी देते हुए कुमार सुशांत ने बताया कि पुस्तक में अयोध्या की पौराणिक महत्ता, श्रीराम मंदिर संघर्ष की गाथा, व्यापक शोध संबंधित तथ्य व कानूनी प्रक्रिया का लेखा—जोखा है। साथ ही भगवान के मानव-कल्याण के संदेशों के साथ—साथ आने वाली युवा पीढ़ी को इससे प्रेरणा मिले, इसके लिए पुस्तक में जाने माने संत, समाजसेवी, श्रीराम मंदिर संघर्ष में योगदान देने वाले राजनीतिक या गैर-राजनीतिक दल या व्यक्ति-विशेष से जुड़े महानुभावों के आलेखों को संग्रहित किया जा रहा है।

बता दें कि पुस्तक को 'रामायण रिसर्च काउंसिल' ( ट्रस्ट ) के बैनर तले प्रकाशित किया गया है। काउंसिल में बोर्ड ऑफ ट्रस्टी के अध्यक्ष केंद्रीय राज्य मंत्री अजय भट्ट हैं तो वहीं इस काउंसिल के संस्थापक कुमार सुशांत हैं।