इरफान अपनी 10 बीवियों संग करता था चोरी, जगुआर और हवाई जहाज में घूमता था

    दिनांक 11-सितंबर-2021   
Total Views |
गाजियाबाद पुलिस ने ऐशोआराम की जिंदगी जीने वाले एक चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के सरगना इरफान और इमरान हैं। इरफान की 10 बीवियां हैं, जो अलग-अलग शहरों में रहती हैं और चोरी में मदद करती हैं।
234_1  H x W: 0 
पुलिस की गिरफ्त में लग्‍जरी चोर गिरोह के सदस्‍य।  
गाजियाबाद पुलिस ने एक चोर परिवार को पकड़ा है, जो ऐशोआराम की जिंदगी बिता रहा था। उसके पास जगुआर जैसी लग्‍जरी कारें हैं। हवाई जहाज में सफर करता है और पांच सितारा होटलों में रातें व्‍यतीत करता था। चोरों के गिरोह का सरगना इरफान है, जबकि उसकी 10 बीवियां इसमें उसकी साझीदार।
इरफान ने 10 निकाह किए हैं। उसकी बीवियां अलग-अलग शहरों में रहती हैं। सभी चोरी में उसकी मदद करती हैं। इरफान के पास जगुआर जैसी महंगी लग्‍जरी गाडि़यां हैं। दरअसल, गाजियाबाद के स्टील कारोबारी कपिल गर्ग की कोठी में एक करोड़ की चोरी हुई थी। 4 सितंबर को कारोबारी के घर चोरी की वारदात को इरफान गिरोह ने ही अंजाम दिया था। पुलिस ने इरफान की एक बीवी गुलशन प्रवीण और गिरोह के दो सदस्‍यों शोएब और विक्रम शाह को गिरफ्तार किया है। शोएब, इरफान का चालक है, जबकि विक्रम शाह चोरी करने से पहले कोठियों की रेकी किया करता था। गाजियाबाद पुलिस ने इनके पास से लाखों रुपये के हीरे और सोने के आभूषण, एक जगुआर कार और एक स्‍कॉर्पियो बरामद किया है। वहीं, गिरोह के सरगना इरफान और इमरान फरार हैं।
इरफान मूलत: बिहार के सीतामढ़ी जिले का रहने वाला है। उसने अपनी 10 बीवियों के साथ देशभर में 50 से अधिक चोरी की बड़ी वारदातों को अंजाम दिया है। गाजियाबाद कविनगर थाना प्रभारी संजीव कुमार शर्मा ने बताया कि इरफान ने कुछ माह पहले राजनगर सेक्टर-3 स्थित एक कोठी में भी चोरी करने का प्रयास किया था, लेकिन सफल नहीं हो पाया। उसकी हरकतें सीसीटीवी में कैद हो गईं। इरफान ने दूसरे राज्‍यों में भी कई चोरियां की हैं। इरफान इतना शातिर चोर है कि इसने गोवा के पूर्व राज्यपाल के रिश्तेदार के घर भी चोरी कर चुका है।
पुलिस के मुताबिक, इरफान जगुआर कार से बिहार जा रहा था। रास्‍ते में एक सड़क दुर्घटना में उसकी कार क्षतिग्रस्‍त हो गई। तब उसने एक नई स्कॉर्पियो खरीदी। इसके बाद 4 सितंबर को तड़‍के करीब चार बजे कविनगर डी-ब्‍लॉक स्थित कारोबारी कपिल गर्ग की कोठी में चोरी के लिए वह अपने चालक शोएब के साथ इसी स्‍कॉर्पियो में गया था। यहां उसे उसने एक करोड़ की चोरी की। यहां से वह सीधे डासना गया और वहां एक पेट्रोल पंप पर रुका, लेकिन उसने यहां तेल नहीं डलवाया। इसके बाद इरफान ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर आया और यहां फास्टटैग से टोल कटवाया। जांच में पुलिस को संदिग्‍ध स्कॉर्पियो दिखी और टोल से उसका नंबर मिल गया। तब जाकर पुलिस गिरोह के सदस्‍यों को गिरफ्तार कर सकी।