खुलकर तालिबान को अपने कंधे पर ढो रहा पाकिस्तान, दुनिया को कहा-अफगानिस्तान को अकेला छोड़ा तो होंगे गंभीर नतीजे

    दिनांक 11-सितंबर-2021   
Total Views |
कुरैशी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कहा कि अफगानिस्तान के प्रति एक नई सकारात्मक सोच रखें अन्यथा अफगान की अवाम, इलाके और विश्व के लिए परिणाम अच्छे नहीं होंगे
 ku_1  H x W: 0
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (फाइल चित्र) 
अपने बिगड़े बोलों के लिए बदनाम पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी फिर राग तालिबान गाते दिखाई दिए हैं। पाकिस्तान ने मानो दुनिया की तमाम लानतें सहकर भी मजहबी जिहादियों की 'सरकार' को अपने कंधे पर सवार करने की ठानी हुई है। कुरैशी ने 10 सितम्बर को विश्व के तमाम देशों का 'हिदायत' दी कि वे तालिबान को अलग-थलग करने से बचें।
कुरैशी ने कहा है कि दुनिया ने देखा कि तालिबान को 'डराना-धमकाना' किसी काम नहीं आया है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कहा कि अफगानिस्तान के प्रति एक नई सकारात्मक सोच रखें। अन्यथा, चेतावनी के लहजे में उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान को अलग-थलग करना ठीक नहीं होगा, इसके गंभीर नतीजे होंगे। इससे अफगान की अवाम, इलाके और विश्व के लिए परिणाम अच्छे नहीं होंगे। पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने यह 'हिदायत' स्पेन के विदेश मंत्री जोस मैनुअल अलबेयर्स के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में दी। अलबेयर्स अफगानिस्तान के हालात पर बात करने इस्लामाबाद गए हुए हैं।
पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा कि अफगानिस्तान के संदर्भ में दबाव और दम दिखाने की नीति किसी काम नहीं आई है। पाकिस्तान ने 'अफगानिस्तान के संबंध में सकारात्मक सोच अपनाई' है।
कुरैशी ने कहा कि अफगानिस्तान के संदर्भ में दबाव और दम दिखाने की नीति किसी काम नहीं आई है। पाकिस्तान ने 'अफगानिस्तान के संबंध में सकारात्मक सोच अपनाई' है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय अफगानिस्तान में नई सचाइयों को पहचाने और 'शांति के लिए तालिबान के साथ बातचीत का रास्ता' कायम करे। अफगानिस्तान में इन दिनों वहां की जनता पर हो रहे जुल्मों और उन्हें करने वाले तालिबान को अपने कंधे पर बैठाए पाकिस्तान के इस नेता ने कहा कि दुनिया को सोचना चाहिए कि 'अफगानिस्तान में मानवीय संकट को कैसे रोका जाए'। उन्होंने आभार जताया कि अफगानिस्तान के लिए पैसा जुटाने हेतु जिनेवा में सम्मेलन होने जा रहा है।
कुरैशी के मुंह से यह सुनकर विशेषज्ञ हैरान हैं कि 'अफगानिस्तान में हालात को बेहतर बनाने में पाकिस्तान योगदान दे रहा है'। विशेषज्ञों का कहना है कि इन दिनों कुरैशी के बयान उन्हें आतंकवाद को पोसने वाले पाकिस्तान के विदेश मंत्री के साथ ही 'तालिबान के प्रवक्ता' जैसी छवि दे रहे हैं।
उधर स्पेन के विदेश मंत्री ने पाकिस्तान आकर अफगानी जनता की मदद के लिए पाकिस्तान और इलाके के अन्य देशों के साथ मिलकर काम करने की इच्छा जताई।