सख्ती - अब खुद सुधरना चाहते हैं शराब माफिया

    दिनांक 11-सितंबर-2021   
Total Views |
उत्तर प्रदेश में शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान चला कर कार्रवाई की जा रही है. 586 मादक पदार्थ और शराब माफिया को चिन्हित कर 3,421 मुकदमे दर्ज किए गए हैं. इसके साथ ही 534 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है. 367 शराब माफियाओं पर गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई की गई है. इसके साथ ही 11 शराब माफियाओं की कुर्की और 101 शराब माफिया की 1 अरब 13 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त की गई है.
12a_1  H x W: 0 
सहारनपुर जिले का कुख्यात तस्कर मोनू उर्फ जहाज ने सपरिवार अवैध शराब संबंधी कार्य न करने का शपथ पत्र दिया है. मोनू जहाज सहारनपुर के करीब 100 गांवों में हरियाणा की करीब 125 पेटी रोज सप्लाई करता था. मोनू उर्फ जहाज पर 20 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं. मोनू के खिलाफ आबकारी अधिनियम के साथ जानलेवा हमला जैसी गंभीर धारा और एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया. मुकदमे में मोनू जहाज की पत्नी भी आरोपी है. मोनू जहाज की संपत्ति जब्त की जा चुकी है.
शराब से होने वाली मौतों पर रोक लगाने के लिए देश में पहली बार आबकारी अधिनियम में संशोधन कर फांसी की सजा तक का प्रावधान किया गया है. प्रदेश में शराब माफिया का सिंडिकेट तोड़ने के लिए यूपी पुलिस और आबकारी विभाग संयुक्त अभियान चला रहा है. आंकड़ों के अनुसार जुलाई माह तक 162 शराब माफिया पर गुंडा एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई की गई और 196 अभियुक्तों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है. इसके अलावा दो शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए गए हैं और 154 अभियुक्तों को जेल भेजा गया है.12 दिन में 1051 आरोपी गिरफ्तार, 29 वाहन जब्त
आबकारी विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय आर भूसरेड्डी के अनुसार 26 अगस्त से छह सितम्बर तक चलाए गए विशेष प्रवर्तन अभियान में अवैध शराब के निर्माण, बिक्री, तस्करी की रोकथाम के लिए लगातार दबिश और चेकिंग की गई. पांच सितम्बर तक प्रदेश में 2807 मुकदमे दर्ज किए गए हैं, जिसमें 73,660 लीटर अवैध शराब बरामद की गई है. अवैध शराब के कारोबार में संलिप्त 1051 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर 29 वाहन जब्त किए गए.
अलीगढ़ जिले में शराब माफिया की 70 करोड़ 71 लाख से अधिक की सम्पत्ति जब्त की गई और एक करोड़ 59 लाख रुपए से अधिक की सम्पत्ति को जब्त करने की कार्यवाही चल रही है. मई में जहरीली शराब के मामले में 87 अभियुक्तों को जेल भेजा गया और नौ मुकदमों में 73 अभियुक्तों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई. इसके साथ ही 80 शराब तस्करों की हिस्ट्रीशीट खोली गई. अवैध शराब के कारोबार में लिप्त 74 अभियुक्तों के खिलाफ नौ गैंग पंजीकृत किए गए हैं.