उत्तरकाशी के सेब की गंगोत्री एप्पल के नाम से ब्रांडिंग, बाजार में बढ़ेगी मांग

    दिनांक 13-सितंबर-2021
Total Views |
 उत्तराखंड ब्यूरो
उत्तराकाशी जिले में सेब का भारी मात्रा में उत्पादन होता है। हर्षिल का सेब अपने रसीले स्वाद की वज़ह से बाजार में अच्छी कीमत में बिकता है। लेकिन इसका कोई ब्रांड नाम नहीं होने की वजह से यह सेब के बाजार में साधारण सेब की तरह बिक रहा है। स्थानीय सेब उत्पादकों ने अब अपने सेब का नाम गंगोत्री सेब के नाम रख कर इसकी ब्रांडिंग शुरू कर दी है।
13_1  H x W: 0  
उत्तराकाशी जिले में सेब का भारी मात्रा में उत्पादन होता है। हर्षिल का सेब अपने रसीले स्वाद की वज़ह से बाजार में अच्छी कीमत में बिकता है। लेकिन इसका कोई ब्रांड नाम नहीं होने की वजह से यह सेब के बाजार में साधारण सेब की तरह बिक रहा है। स्थानीय सेब उत्पादकों ने अब अपने सेब का नाम गंगोत्री सेब के नाम रख कर इसकी ब्रांडिंग शुरू कर दी है।
हर्षिल उत्तरकाशी गंगोत्री सेब बेल्ट मानी जाती है। यहां का सेब उत्तराखंड और हिमाचल के सेब की तुलना में उच्च गुणवत्ता वाला माना जाता है। ये सेब, ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड से आयातित सेब से भी बढ़िया और रसीला माना जाता है।
उत्तरकाशी के सेब उत्पादकों ने बाजार में गंगोत्री एप्पल की साख बने, इसकी ब्रांडिंग हो, सेब की बिक्री ऑनलाइन, मॉल्स स्टोर्स में सीधे अपने नाम से हो, इसके लिए सेब उत्पादकों ने अपने स्तर से प्रयास शुरू कर दिए हैं। सेब को रखने के लिए जो गत्ते के बॉक्स भी गंगोत्री एप्पल के बनाए गए है, उन पर स्टिकर्स भी गंगोत्री एप्पल्स के ही लगाए जाएंगे।
सेब उत्पादक अपने सेब को वायरस फ्री और ऑर्गेनिक की श्रेणी में रख रहे हैं। ताकि महानगरों में इसके खाने वाले इसे अन्य सेब प्रजातियों से अलग रखें। उत्तराखंड के एप्पल मैन के नाम से जाने जाते सुधीर चड्ढा कहते हैं कि सेब किसानों का ये प्रयास उन्हें व्यावसायिकता की ओर ले जाता है, जिससे उन्हें खुद को बहुत फायदा मिलने वाला है।