पंजाब: सिद्धू ने कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों पर दर्ज मामला रद्द करने के लिए मुख्‍यमंत्री को लिखा पत्र

    दिनांक 13-सितंबर-2021   
Total Views |
पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को पत्र लिखा है। इसमें उन्‍होंने केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ राज्‍य में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर दर्ज मामलों को रद्द करने की मांग की है। 10 सितंबर को पंजाब के किसान संगठनों के साथ हुई बैठक के बाद उन्‍होंने यह पत्र लिखा है। साथ ही, सिद्धू ने केंद्र सरकार के उस कानून को भी लागू नहीं करने की मांग की है, जिसमें किसानों की फसल सरकारी एजेंसियों द्वारा खरीदे जाने से पहले उनकी जमीन का ब्रिकॉर्ड उपलब्ध कराने को कहा गया है। ii17_1  H x W:
पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को पत्र लिखा है। इसमें उन्‍होंने केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ राज्‍य में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर दर्ज मामलों को रद्द करने की मांग की है। 10 सितंबर को पंजाब के किसान संगठनों के साथ हुई बैठक के बाद उन्‍होंने यह पत्र लिखा है। साथ ही, सिद्धू ने केंद्र सरकार के उस कानून को भी लागू नहीं करने की मांग की है, जिसमें किसानों की फसल सरकारी एजेंसियों द्वारा खरीदे जाने से पहले उनकी जमीन का ब्रिकॉर्ड उपलब्ध कराने को कहा गया है।
10 सितंबर को पंजाब के किसान संगठनों ने राज्‍य के सभी राजनीतिक दलों के साथ एक बैठक की थी। उस बैठक में सिद्ध के साथ परगट सिंह भी मौजूद थे। इसमें किसान संगठनों ने ये मांगें उठाई थीं। मुख्‍यमंत्री को लिखे पत्र में सिद्धू ने कहा है कि किसानों इन दों मांगों पर तत्‍काल अमल किया जाए।
दरअसल, किसान लंबे समय से तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। अब यह आंदोलन राजनीति रूप अख्तियार करता जा रहा है। शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस सहित तमाम राजनीतिक दल इसे आगामी विधानसभा चुनाव में हथियार के तौर पर इस्‍तेमाल करना चाहते हैं। कृषि कानूनों के लागू होने के एक साल पूरे होने पर शिअद 17 सितंबर को ‘काला दिवस’ के रूप में मनाएगा। इस दिन किसानों के साथ शिअद कार्यकर्ता इन कानूनों को रद्द करने की मांग करते हुए नई दिल्ली में गुरुद्वारा रकाबगंज से संसद तक एक विरोध मार्च करेंगे।