मुख्यमंत्री धामी ने की पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट की समीक्षा, 2024 से ट्रेन से हो सकेगी बद्री—केदार की यात्रा

    दिनांक 15-सितंबर-2021
Total Views |

उत्तराखंड ब्यूरो

वह दिन दूर नहीं, जब बद्री—केदार धाम जाने वाले तीर्थयात्रियों को ऋषिकेश के बजाय कर्णप्रयाग उतरना पड़ेगा। प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि तीर्थ यात्री सड़क के साथ—साथ ट्रेन से भी सफर करें।
yogi_1  H x W:

वह दिन दूर नहीं, जब बद्री—केदार धाम जाने वाले तीर्थयात्रियों को ऋषिकेश के बजाय कर्णप्रयाग उतरना पड़ेगा। प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि तीर्थ यात्री सड़क के साथ—साथ ट्रेन से भी सफर करें।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रेल विकास निगम के अधिकारियों के साथ ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि अभी तक बेहतर समन्वय से काम किया जा रहा है। आगे भी इसे बनाए रखने की जरूरत है। राज्य सरकार द्वारा हर सम्भव सहयोग किया जाएगा। चार धाम सड़क परियेजना के साथ ही ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की उत्तराखण्ड को बड़ी देन है। वह समय दूर नहीं, जब पहाड़ में रेल का सपना पूरा होगा। इससे राज्य की आर्थिकी में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा।  

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना के मुख्य परियोजना प्रबंधक हिमांशु बडोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि मार्च, 2024 तक परियोजना को पूर्ण किए जाने के लक्ष्य के साथ काम किया जा रहा है। अभी तक परियोजना में अपेक्षानुरूप गति से काम हुआ है। ऋषिकेश के बाद परियोजना मुख्यतः अंडरग्राउंड है। भूमि अधिग्रहण किया जा चुका है। इस रेल लाईन पर 12 स्टेशन और 17 टनल बनाये जा रहे हैं। काम निर्धारित समयावधि में पूरा किया जा सके, इसके लिए विभिन्न स्थानों पर एक साथ काम चल रहा है। एप्रोच रोड़ पहले ही बनाई जा रही हैं। रेल परियोजना के निर्माण में राज्य सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है।

उन्होंने बताया कि रेल विकास निगम द्वारा अनेक जनकल्याणकारी काम किए जा रहे हैं। श्रीनगर में 52 बेड का संयुक्त चिकित्सालय बनाया जा रहा है। ऑक्सीजन प्लांट भी बनाए गए हैं। रेल परियोजना की बेल्ट को हॉर्टीकल्चर और हनी बेल्ट के रूप में विकसित किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए वृहद स्तर पर वृक्षारोपण किया जा रहा है। रेल अधिकारियों ने ये भी बताया कि इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद अगले चरण में बद्री—केदार तक रेल लाइन पहुंचाने का काम शुरू होगा।