तालिबान के डर से अफगानिस्तान से भाग रहे अफगानी, चमन सीमा पर भगदड़ में चार मरे

    दिनांक 03-सितंबर-2021   
Total Views |
 
aff_1  H x W: 0
 पाकिस्तान की चमन सीमा पर अफगानिस्तान से निकलने को बेचैन अफगान लोगों की भारी भीड़
काबुल हवाई अड्डा बंद होने के बाद अफगान लोगों के लिए सड़क के रास्ते सीमा से बाहर होना ही एकमात्र उम्मीद की किरण बन गई है। इसलिए सीमा द्वारों, खासकर चमन सीमा पर हजारों लोग बीवी, बच्चों समेत धक्कामुक्की झेल रहे हैं
पाकिस्तान से सटी अफगानिस्तान की सीमाओं पर इस वक्त भयंकर स्थिति है। क्रूर तालिबान के राज में न रहने की कसमें खाए आम अफगानी बड़ी तादाद में कैसे भी अफगान सरहद से निकल जाना चाहते हैं। काबुल हवाई अड्डा बंद होने के बाद तो, सड़क के रास्ते सीमा से बाहर होना ही उन्हें एकमात्र उम्मीद की किरण दिख रही है। इसलिए सीमा द्वारों, खासकर चमन सीमा पर हजारों लोग बीवी, बच्चों समेत धक्कामुक्की झेल रहे हैं। इस भगदड़ में अभी तक चार लोगों के मारे जाने की अपुष्ट खबर मिली है।
काबुल हवाई अड्डे से विमानों का उड़ना बंद होने के बाद अफगानिस्तान के अधिकांश आमजन अपनी जान सांसत में मान रहे हैं। वे कैसे भी पड़ोसी देशों में दाखिल होना चाहते हैं। ऐसे ही हजारों की तादाद में भीड़ पाकिस्तान से सटी सीमा पर भी दिख रही है।
लेकिन तालिबान को लेकर अफगानिस्तान के लोगों में ऐसा खौफ समाया हुआ है कि वे किसी भी तरह देश छोड़ना चाहते हैं, चाहे इसके लिए अपनी जान ही क्यों ना दाव पर लगानी पड़े। लोगों ने पड़ोसी देशों में शरण लेनी शुरू कर दी है।
तालिबान को लेकर अफगानिस्तान के लोगों में ऐसा खौफ समाया हुआ है कि वे किसी भी तरह देश छोड़ना चाहते हैं, चाहे इसके लिए अपनी जान ही क्यों ना दाव पर लगानी पड़े। लोगों ने पड़ोसी देशों में शरण लेनी शुरू कर दी है। पाकिस्तान ने चमन सीमा अस्थायी रूप से बंद कर दी है, इससे और अफरातफरी मच गई है।
ताजा खबर यह मिली है कि लोगों की दाखिल होने की मारामारी को देखते हुए पाकिस्तान ने अपनी चमन सीमा अस्थायी रूप से बंद कर दी है, इससे और अफरातफरी मच गई है। हजारों की तादाद में पुरुष, महिलाएं और बच्चे सरहद के बगल में डेरा जमाए बैठे हैं।
चमन सीमा का रास्ता अफगानिस्तान के कंधार सूबे के स्पिन बोल्डक इलाके को पाकिस्तान के चमन शहर से जोड़ता है। एक पत्रकार द्वारा सोशल मीडिया पर साझा किये गए वीडियो में साफ दिखता है कि लोगों की भारी भीड़ पाकिस्तान में किसी तरह दाखिल होने के लिए हाथ—पैर मार रही है।