तीन दशक तक पाकिस्तान की शह पर कश्मीर में खूनी हिंसा के जिम्मेदार सैयद गिलानी की मौत

    दिनांक 03-सितंबर-2021   
Total Views |
जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया। कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का यही चाल—चरित्र था। बीती बुधवार की रात सैयद अली शाह ने श्रीनगर आवास पर आखिरी सांस ली।
igp_1  H x W: 0


जिस
थाली में खाया, उसी में छेद किया। कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का यही चाल—चरित्र था। बीती बुधवार की रात सैयद अली शाह ने श्रीनगर आवास पर आखिरी सांस ली। गिलानी भारत और कश्मीर इतिहास के वह कुख्यात शख्स हैं, जिसने 3 दशकों से अधिक समय तक कश्मीर घाटी में आतंकवाद और आतंकियों को बढ़ावा दिया था।


इतना ही नहीं पाकिस्तान की शह पर लाखों हिंदुओं का कत्लेआम भी कराया था। 1990 में पाकिस्तान की शह पर इस्लामिक कट्टरपंथियों ने कश्मीरी हिंदुओं के साथ अत्याचार किया, बहन-बेटियों के साथ बलात्कार किया था। उस क्रूर हिंसा में भी सैयद अली शाह गिलानी का हाथ था। जिसकी वजह से लाखों कश्मीरी हिंदू अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर हुए थे। गिलानी का पाकिस्तान प्रेम उनकी मौत के बाद भी देखने को मिल रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मौत पर देश में एक दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है।


आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि पूरी घाटी में पाबंदियां लगाने के साथ ही मोबाइल इंटरनेट सेवा स्थगित कर दी गई हैं। इस बीच दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग से हुर्रियत नेता और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स लीग के अध्यक्ष मुख्तार अहमद वाजा को देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है। सुरक्षा एजेंसियों ने गिलानी की मौत के बाद पूरी घाटी में अलर्ट जारी कर दिया है।