निक्की हेली की चेतावनी, 'बगराम एयरबेस पर चीन की तिरछी नजर, पाकिस्तान के सहारे बना सकता है भारत को निशाना'

    दिनांक 03-सितंबर-2021   
Total Views |

तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद से पाकिस्तान और चीन, दोनों कुछ ज्यादा ही खुश नजर आ रहे हैं। अमेरिका से दुत्कार के बाद चीन की गोद में जा बैठे पाकिस्तान के सहारे बीजिंग भारत को लेकर अपनी कूटनीतिक साजिश पूरी कर सकता है
neeki_1  H x W:
निक्की हेली
विश्व के तमाम देश यह देख रहे हैं कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से चीन उन बर्बर लड़ाकों के प्रति कुछ ज्यादा ही नरमी से पेश आ रहा है। वह तालिबान से नजदीकी बढ़ा रहा है। तालिबान सरगनाओं को बीजिंग बुलाकर दावत उड़वा रहा है। विशेषज्ञों की राय में इसके पीछे उसकी एक गहरी चाल हें चीन चाहता है कि अफगानिस्तान में अमेरिका का छोड़ा बगराम एयरबेस उनके नियंत्रण में आ जाए।

कुछ ऐसी ही चेतावनी निक्की हेली ने दो दिन पहले दी है। निक्की संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत रह चुकी हैं और अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं।

उल्लेखनीय है कि तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद से पाकिस्तान और चीन, दोनों कुछ ज्यादा ही खुश नजर आ रहे हैं। अमेरिका से दुत्कार के बाद चीन की गोद में जा बैठे पाकिस्तान के सहारे बीजिंग भारत को लेकर अपनी कूटनीतिक साजिश पूरी कर सकता है। इसकी कोशिश भी शुरू कर दी गई है। पूर्व राजदूत निक्की हेली ने चीन की इसी मंशा को लेकर सावधान किया है कि चीन अफगानिस्तान में बगराम एयरबेस को अपने नियंत्रण में ले सकता है। कारण? यह वही एयरबेस है जिसे अमेरिका इस्तेमाल करता आ रहा था क्योंकि यह रणनीतिक रूप से काफी अहम है।


निक्की ने कहा है कि चीन पर नजर बनाए रखनी होगी क्योंकि चीन जल्दी ही बगराम एयरबेस की तरफ कदम बढ़ाएगा। लगता है वह अफगानिस्तान में भारत के विरुद्ध पाकिस्तान का इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा। अमेरिका की सरकार को भारत, जापान तथा ऑस्ट्रेलिया जैसे अपने सहयोगियों देशों के साथ नजदीकी संपर्क बनाए रखना होगा।

निक्की ने एक चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा है कि रूस जैसे देश हमें नुकसान पहुंचाना जारी रखेंगे। वजह यह कि हमने ऐसा कोई इशारा नहीं दिया है कि हम लड़ना चाहते हैं। साथ ही, चीन पर नजर बनाए रखनी होगी क्योंकि चीन जल्दी ही बगराम एयरबेस की तरफ कदम बढ़ाएगा। लगता है वह अफगानिस्तान में भारत के विरुद्ध पाकिस्तान का इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा।

निक्की ने अफगानिस्तान से अमेरिका को बाहर निकालने पर बाइडेन प्रशासन की भी भर्त्सना की। उन्होंने कहा कि आज अमेरिका की सरकार को भारत, जापान तथा ऑस्ट्रेलिया जैसे अपने सहयोगी देशों के साथ नजदीकी संपर्क बनाए रखना होगा।

आतंकवाद के मुद्दे पर हेली ने कहा कि हमें अपनी साइबर सुरक्षा मजबूत रखनी होगी। रूस और चीन अफगानिस्तान में बाइडेन के कदम पीछे खींचने की खुशी मना रहे हैं। ये दोनों इस मौके का पूरा लाभ उठाने की फिराक में हैं।