इलाहाबाद उच्च न्यायालय में न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नति के लिए 13 अधिवक्‍ताओं के नामों की सिफारिश

    दिनांक 04-सितंबर-2021   
Total Views |
 254_1  H x W: 0
भारत के प्रधान न्‍यायाधीश एन.वी. रमना की अध्‍यक्षता वाले सर्वोच्‍च न्‍यायालय के कॉलेजियम ने इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय में न्‍यायाधीश के रूप में पदोन्‍नति के लिए 13 अधिवक्‍ताओं के नामों की सिफारिश की है।
शीर्ष अदालत की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक 24 अगस्त को हुई बैठक में अधिवक्ताओं की पदोन्नति के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। इनमें चंद्र कुमार राय, शिशिर जैन, कृष्ण पहल, समीर जैन, आशुतोष श्रीवास्तव, सुभाष विद्यार्थी, बृज राज सिंह, श्री प्रकाश सिंह, विकास बधवार, विक्रम डी. चौहान, ऋषद मुर्तजा, ध्रुव माथुर और विमलेन्दु त्रिपाठी के नाम शामिल हैं।
इस बीच, सर्वोच्‍च न्‍यायालय के कॉलेजियम ने केंद्र में विभिन्न राज्य उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नति के लिए एक बार में 68 नामों की सिफारिश की है। इसे कॉलेजियम द्वारा हाल के दिनों में विभिन्न उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए केंद्र को की गई सिफारिशों की एक रिकॉर्ड संख्या के रूप में देखा जा सकता है।
हाल ही में हुई बैठकों में 25 अगस्त और 1 सितंबर को सर्वोच्‍च न्‍यायालय के कॉलेजियम ने 112 उम्मीदवारों के नामों पर विचार किया। इनमें बार काउंसिल से 82 और न्यायिक सेवा से 31 उम्‍मीदवारों के नाम हैं। 12 उच्च न्यायालयों के लिए स्वीकृत 68 में से 44 नाम बार से और 24 न्यायिक सेवा से हैं।
न्‍यायाधीशों के नामों की सिफारिश 12 उच्च न्यायालयों इलाहाबाद, राजस्थान, कलकत्ता, झारखंड, जम्मू एवं कश्मीर, मद्रास, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, पंजाब एवं हरियाणा, केरल, छत्तीसगढ़ और असम के लिए की गई है। सर्वोच्‍च न्‍यायालय कॉलेजियम में भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एन.वी. रमना, न्‍यायमूर्ति उदय उमेश ललित, ए.एम. खानविलकर, डॉ. धनंजय वाई चंद्रचूड़ और एल. नागेश्वर राव के नेतृत्व में पांच वरिष्ठतम न्यायाधीश शामिल हैं।