पाञ्चजन्य धर्म युद्ध का शंखनाद है: डॉ मनमोहन वैद्य

    दिनांक 07-सितंबर-2021   
Total Views |
गत 6 सितंबर को नई दिल्ली स्थित मयूर विहार एक्सटेंशन में पाञ्चजन्य एवं आर्गेनाइजर के नए कार्यालय का वैदिक विधि—विधान से शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ मनमोहन वैद्य
vivith_1  H x W 
गत 6 सितंबर को नई दिल्ली स्थित मयूर विहार एक्सटेंशन में पाञ्चजन्य एवं आर्गेनाइजर के नए कार्यालय का वैदिक विधि—विधान से शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ मनमोहन वैद्य। हवन—पूजन के बाद अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि भारत का विचार सर्वसमावेशक है और इसी विचार को आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। मौजूदा दौर में वैचारिक युद्ध तो चल ही रहा है। राष्ट्रभावी शक्तियां मजबूत न होने पाएं, इसके लिए राष्ट्र विरोधी तत्व हर स्तर पर प्रयासरत हैं। ऐसे में भारत में राष्ट्र विरोधी विचारों को प्रभावी न होने देना है। एक तरह से यह धर्म युद्ध है और पाञ्चजन्य धर्म युद्ध का शंखनाद ही है। जो लोग धर्म के साथ नहीं हैं, उन पर बाण चलाने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हमने सारे समाज को अपना माना है और इसलिए समाज को साथ लेकर आगे बढ़ना है। यही भारत का मूल विचार है। सभी भारत माता की संतान हैं और सबके सहयोग से ही हम धर्म युद्ध जीतेंगे।
इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य श्री राम माधव, पूर्व राज्यसभा सांसद श्री तरुण विजय, दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता, भारत प्रकाशन दिल्ली लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री भारत भूषण अरोड़ा, निदेशक—ब्रज बिहारी गुप्ता,अनिल गुप्ता, निदेशक एवं प्रकाशक श्री बिहारी लाल सिंघल, पाञ्चजन्य के संपादक श्री हितेश शंकर,आर्गेनाइजर के संपादक श्री प्रफुल्ल केतकर, सर्वोच्च न्यायालय की वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीमती मोनिका अरोड़ा सहित अनेक गणमान्यजन उपस्थित रहे।