राष्ट्र

राहत इन्दौरी की शायरी मानवता की चिंता से सिमट कर मुसलमानों की चिंता तक आ गई

डॉ. रामकिशोर उपाध्याय राहत इंदौरी के चाहने वालों को इस बात का भी दुःख रहेगा कि वे अपनी प्रतिभा से मानवता का पथ प्रदर्शित करने वाली महान रचनाओं को या तो रच नहीं सके या रची भीं तो उन्हें जनता तक पहुँचा नहीं पाए। वे एक मजहब, एक पक्ष के होकर ही जिए। उनकी रचनाओं में जहाँ-जहाँ  हिन्दुस्तान पर गर्व किया गया वह महात्मा गाँधी का हिंदुस्तान न होकर मुग़ल कालीन हिंदुस्तान है जिसके सुलतान/शासक  मुसलमान हैं और वे स्वयं को प्राचीन भारतीय पूर्वजों के स्थान पर मुगलों से जोड़ कर रचानाएँ लिखते थे।उर्दू शायरी के लोकप्र

आगे पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने अवंतीपोरा में सक्रिय दो आतंकी ठिकानों को किया ध्वस्त

 सुरक्षाबलों ने गुरुवार को अवंतीपोरा स्थित बदरु,बारसो इलाके में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो बड़े आतंकी ठिकाने को ढूंढ निकाला। जहां हथियार समेत कई आपत्तिजनक सामग्री सुरक्षाबलों बरामद की है।जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। सुरक्षाबलों ने गुरुवार को अवंतीपोरा स्थित बदरु,बारसो इलाके में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो बड़े आतंकी ठिकाने को ढूंढ निकाला। जहां हथियार समेत कई आपत्तिजनक सामग्री सुरक्षाबलों बरामद की है। खबरों के मुताबिक सुरक्षाबलों को जानकारी मिली थी कि अवंतीपोरा के बदरु,ब

आगे पढ़ें

दलितों की चिंता में पतली दिखने वाली कांग्रेस बेंगलुरु में हुई मजहबी हिंसा पर मुँह सिले हुए है

डॉ. अंशु जोशीबेंगलुरु में जिस तरह से भीषण हिंसा को अंजाम दिया गया है उससे साफ़ समझ आता है कि यह लोग कितने सहिष्णु, कितने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पैरोकार और कितने ही प्रगतिशील हैं। इस हिंसा के बाद न कोई दलित हितैषी नज़र आया न शांति के अग्रदूत। भीम-मीम की बात करने वाले नदारद हैं बेंगलुरु में हिंसा की घटना की खबर आयी तो समझ ही न आया कि ऐसा आखिर हुआ क्या ?  पर कारण पता चलते ही कितने ही प्रश्न, कितनी ही बातें, कितने ही अनुभव मन में उमड़-घुमड़ आये। कांग्रेस पार्टी के एक दलित विधायक के भतीजे ने पैगम्बर मोहम्म

आगे पढ़ें

15 अगस्त के बाद जम्मू—कश्मीर में 4G सेवा शुरू करने की तैयारी, दो जिलों में होगा ट्रायल

जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सेवा की बहाली को लेकर केंद्र सरकार का बड़ा फैसला आया है। गत दिनों सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने बताया है कि 4जी इंटरनेट सेवा पर से बैन जम्मू-कश्मीर के दो जिलों में ट्रायल के आधार पर 15 अगस्त के बाद से हटा लिया जायेगा।जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सेवा की बहाली को लेकर केंद्र सरकार का बड़ा फैसला आया है। गत दिनों सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने बताया है कि 4जी इंटरनेट सेवा पर से बैन जम्मू-कश्मीर के दो जिलों में ट्रायल के आधार पर 15 अगस्

आगे पढ़ें

नई शिक्षा नीति की आत्मा भारतीय मूल्यों और भविष्यपरक शिक्षा के सुन्दर गठबंधन में बसी दिखाई देती है

डाॅ. अंशु जोशीविगत 34 वर्षों से चली आ रही भारतीय शिक्षा नीति में अंततः आमूलचूल परिवर्तन कर नयी शिक्षा नीति हमारे सामने है। भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने के उद्देश्य के साथ शिक्षा के क्षेत्र में सर्वांगीण विकास और भारतीय संस्कृति के साथ आने वाले भविष्य की रूपरेखा पर यह नीति आधारित है। एक समय था कि भारत विश्व गुरु के रूप में पूरे विश्व में जाना जाता था। तबकी शिक्षा प्रणाली विज्ञान, सामजिक विज्ञान और नैतिक मूल्यों के मज़बूत स्तंभों पर खड़ी थी। उस समय उद्देश्य बच्चों के "रिपोर्ट कार्ड" में "ए प्लस" ग

आगे पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: अलगाव और आतंक की कमर तोड़कर बढ़ते विकास की ओर कदम

प्रणय कुमारअनुच्छेद— 370 और धारा 35 ए के हटने का सर्वाधिक लाभ जम्मू-कश्मीर की महिलाओं और बेटियों-बहनों को प्राप्त हुआ है। वे आतंक और भय के साए से मुक्त शिक्षा एवं रोज़गार के लिए निडरता से आगे आ रही हैं। आत्मनिर्भरता के लिए उन्हें हस्तकला से लेकर तमाम परंपरागत एवं नवीन कौशलों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक गतिविधियों में उनकी बढ़ती भागीदारी महिला सशक्तीकरण की दिशा में एक ठोस क़दम सिद्ध हो रही है।राम-मंदिर के शिलान्यास और भूमि-पूजन कार्यक्रम ने संपूर्ण देश-दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्

आगे पढ़ें

श्रीराम मंदिर भूमि पूजन पर प्रवासी भारतीयों में भी दिखा गजब का उत्साह, “जय श्री राम” के नारों से गूंजा अमेरिका

अमेरिका में रहने वाले प्रवासी भारतीय नागरिकों ने अयोध्या में ऐतिहासिक राम मंदिर के कार्यारंभ समारोह का जश्न मनाने के लिए वाशिंगटन डीसी स्थित अमेरिकी कैपिटल हिल पर इकट्ठा हुए। इस दौरान उन्होंने झांकी निकाली एवं भगवा झंडा लेकर कैपिटल हिल के बाहर जय श्री राम के नारे लागए।अयोध्या में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा भव्य और दिव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन कार्यक्रम से पहले भारत समेत अमेरिका में भी जय श्री राम के नारों की गूंज रही। खबरों के मुताबिक अमेरिका में रहने वाले प्रवासी भारतीय नागरिकों ने अयोध्य

आगे पढ़ें

ऐतिहासिक क्षण : तारीख 5 अगस्त, दिन बुधवार और समय 12 बजकर 44 मिनट 8 सेकेंड पर शुरू हुआ मंदिर पुर्ननिर्माण

कई दशकों से पूछे जा रहे सवाल पर आज पूर्ण विराम लग गया. तारीख 5 अगस्त, दिन बुधवार और समय 12 बजकर 44 मिनट 8 सेकेंड पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंचे और मंदिर पुर्ननिर्माण की शुरुआत हो गई. राम लला के वास्ते , खाली कर दो रास्ते- ऐसे कितने ही नारे गूंजायमान हुए. अनगिनत संघर्ष और बलिदान हुआ. तब आज 5 अगस्त को करोड़ों सनातन धर्मियों के आराध्य प्रभु श्री राम के भव्य मंदिर का भूमि पूजन संभव हो पाया. भगवान राम ने अपने जीवन काल में मर्यादा स्थापित की. उन्होंने वनवास स्वीकार किया. रावण से य

आगे पढ़ें

महंत अवेद्यनाथ: जिनके लिए गोरक्षपीठ गौण, श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन महत्वपूर्ण हो गया

योगी आदित्यनाथश्रीराम जन्मभूमि आन्दोलन को परिणति तक पहुंचाने में किसी एक व्यक्ति का नहीं अपितु पूरे समाज और कई पीढि़यों का योगदान रहा है। लेकिन एक शिल्पकार, संयोजक, संघटक एवं श्रीराम जन्मभूमि मुक्ति समिति के अध्यक्ष के नाते गोरक्षपीठ के महंत अवेद्यनाथ जी की भूमिका महती रहीएक कार्यक्रम को संबोधित करते महंत अवेद्यनाथ जी महाराज। साथ में हैं(बाएं से) राजमाता विजयाराजे सिंधिया एवं अशोक सिंहल(सबसे दाएं)श्रीराम जन्मभूमि से मेरा जुड़ाव दो प्रकार से है। एक, गोरक्षपीठ के नाते और दूसरा मुख्यमंत्री के नाते। गोरक्षपीठ क

आगे पढ़ें

आसान नहीं था इस प्रण को पूरा करना—'सौगंध राम की खाते हैं-हम मंदिर वहीं बनाएंगे'

'सौगंध राम की खाते हैं-हम मंदिर वहीं बनाएंगे।' आसान नहीं था इस प्रण को पूरा करना। इसके लिए हिंदू समाज ने उपेक्षा, उपहास और कड़े विरोध के कठिन चरणों से गुजरना पड़ा है। राम मंदिर आंदोलन के आधुनिक स्वरूप के पहले चरण में इसका खूब मजाक बनाया गया और विरोध हुआ तो इस कदर कि मुलायम सिंह यादव जैसे सेकुलर नेताओं ने निहत्थे लोगों पर गोलियां-लाठियां चलवाकर सरयू के पानी को लाल कर दिया।  पांच अगस्त का दिन। संदेश है 'एकम् सद् विप्र: बहुधा वदंति' के सनातन सिद्धांत की विजय का। एक बार सत्य फिर स्थापित हो रहा है। दुनिया म

आगे पढ़ें