पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अफगानिस्तान: तालिबान ने कहा-संघर्षविराम हो, संकट का राजनीतिक समाधान हो

WebdeskJul 19, 2021, 05:40 PM IST

अफगानिस्तान: तालिबान ने कहा-संघर्षविराम हो, संकट का राजनीतिक समाधान हो

कतर में बातचीत की मेज पर तालिबानी वार्ताकार   (फाइल चित्र)  


कतर में अफगानिस्तान के प्रतिनिधिमंडल और तालिबानी नेताओं के बीच 'शांति' कायम करने को हो रही वार्ता को कोई ठोस नतीजा निकलने की उम्मीद नहीं

 

तालिबान ने ईद के मौके पर कहा है कि अफगानिस्तान किसी को भी अपने क्षेत्र का इस्तेमाल दूसरे देशों की सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए नहीं करने देगा। इस्लामी जिहादी गुट ने अफगान सरकार को 'संघर्षविराम प्रस्ताव' भेजकर कहा है कि अफगानिस्तान संकट का राजनीतिक समाधान होना चाहिए।

 

    उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान की सरकार और तालिबान लड़ाकों के नेताओं के बीच 17 जुलाई को कतर में 'शांति वार्ता' शुरु हुई थी। 18 जुलाई को तालिबान ने अफगान सरकार के वार्ताकारों को अपना संघर्षविराम प्रस्ताव भेजा था। इसके अलावा तालिबान नेता मुल्ला हिब्तुल्ला अखुंदजादा ने भी 18 जुलाई को अपने ‘ईद संदेश’ में अफगानिस्तान में संकट के राजनीतिक समाधान की जरूरत जताई है। मुल्ला का कहना है कि वे राजनीतिक समाधान के प्रति ‘गंभीर’ हैं। मुल्ला ने यह भी कहा कि देश में एक इस्लामी व्यवस्था और शांति तथा सुरक्षा होने लिए तालिबान हर मौके का फायदा उठाएगा। वे बातचीत के जरिए मुद्दों को सुलझाने के लिए तैयार हैं।

    कोई अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में दखन न दे

    मुल्ला की मानें तो तालिबान दुनिया के साथ ‘अच्छे, पक्के कूटनीतिक संबंध चाहता है। उसने पड़ोसी देशों, इलाके और दुनिया को भरोसा दिया कि अफगानिस्तान किसी को भी अपने क्षेत्र का इस्तेमाल दूसरे देशों की सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए नहीं करने देगा। अन्य देश अफगानिस्तान के अंदरूनी मामलों में ‘दखल’ न दें। तालिबान इस्लामी काननू और देश के हितों के खाके के तहत अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए प्रतिबद्ध है। उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान के वरिष्ठ नेताओं में से एक अब्दुल्ला अब्दुल्ला की अगुआई में अफगानिस्तान इस्लामी गणराज्य का एक प्रतिनिधिमंडल और तानिबान के उपनेता अब्दुल गनी बरादर की अगुआई में तालिबानी प्रतिनिधिमंडल ने 17 जुलाई को कतर में ‘शांति’ के प्रयासों पर बातचीत शुरू की है।


मुल्ला की मानें तो तालिबान दुनिया के साथ ‘अच्छे, पक्के कूटनीतिक संबंध चाहता है। उसने पड़ोसी देशों, इलाके और दुनिया को भरोसा दिया कि अफगानिस्तान किसी को भी अपने क्षेत्र का इस्तेमाल दूसरे देशों की सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए नहीं करने देगा। अन्य देश अफगानिस्तान के अंदरूनी मामलों में ‘दखल’ न दें।

    संभवत: इस बातचीत में उन मुद्दों पर सहमति हो पाए जो देश को राजनीतिक हल की तरफ ले जाएंगे। इससे हिंसा खत्म होगी। बता दें कि कतर ही वह स्थान है जहां अफगानिस्तानी और तालिबानी प्रतिनिधिमंडलों ने पिछले दस महीनों से द्विपक्षीय चर्चाएं जारी रखी हैं। दुर्भाग्य से इन बैठकों में अभी तक कुछ ठोस निकलकर नहीं आया है। इस बार भी कोई बहुत ज्यादा उम्मीद इसलिए नहीं है क्योंकि तालीबानी हत्यारों की बर्बरता जारी है, वे कब्जाए इलाकों में कड़े इस्लामी कानून थोपने में लगे हैं।  

Follow Us on Telegram


 

Comments

Also read: चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: अब 30 से अधिक देशों में मान्य हुआ भारत का कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट ..

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन
दुनिया के 10 बड़े कर्जदारों में शामिल हुआ पाकिस्तान, अब मांगे से भी न मिलेगा कर्जा

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने

स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ठहराया और कहा कि यह उन्होंने 'इस्लाम के कानून के हिसाब' से ही किया है नाइजीरिया के एक इस्लामिक स्कूल में लड़की को चार शिक्षकों द्वारा डंडों से पीटे जाने का वीडियो दुनिया भर में तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल ये शिक्षक उस छात्रा को 'सजा' देते दिख रहे हैं। 'सजा' देने वाले वे चारों पुरुष शिक्षक छात्रा को घेरकर पीटते दिख रहे हैं, जबकि वहां तमाशबीनों का मजमा लगा है। इतना ही नहीं, स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ...

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने