पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अमित शाह  पहुंचेंगे विंध्यधाम, 140 करोड़ रुपए की योजना का करेंगे  शिलान्यास

WebdeskAug 01, 2021, 02:48 PM IST

अमित शाह  पहुंचेंगे विंध्यधाम, 140 करोड़ रुपए की योजना का करेंगे  शिलान्यास

 पर्यटन विभाग ने माँ विंध्यवासिनी देवी कॉरीडोर के विकास के लिए 140 करोड़ रुपए की कार्ययोजना तैयार की है. एक अगस्त को  केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह  शिलान्यास करेंगे. इसके  साथ ही पूरी हो चुकी कुछ परियोजनाओं का लोकार्पण भी करेंगे./


माँ विंध्यवासिनी देवी कॉरीडोर के विकास के लिए बनाई गई कार्ययोजना के मुताबिक मंदिर परकोटा का निर्माण, परिक्रमा पथ का निर्माण, सड़क एवं मुख्य द्वार का सुदृढ़ीकरण एवं सुंदरीकरण, मंदिर की गलियों के फसाड ट्रीटमेंट का निर्माण कार्य, माँ विंध्यवासिनी मंदिर को जाने वाले मार्गों को जोड़ने वाले पहुंच मार्गों का सुदृढ़ीकरण एवं निर्माण, विंध्याचल मेला परिक्षेत्र में पार्किंग, शॉपिंग सेंटर व अन्य यात्री सुविधाओं का निर्माण होना है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति  में केंद्रीय गृहमंत्री इन कार्यों का शिलान्यास करने के साथ ही रोप-वे परियोजना का लोकार्पण करेंगे.
 
विंध्य क्षेत्र में माँ अष्टभुजा एवं  मां कालीखोह मंदिर पर्वत श्रृंखला पर स्थित होने के कारण श्रद्धालुओं को दर्शन में कठिनाई होती थी. इसे देखते हुए यूपी सरकार ने 13.14 करोड़ रुपये की लागत से रोप-वे का निर्माण कराया है. माँ अष्टभुजा मंदिर स्थित 296 मीटर लंबा रोप-वे 47 मीटर की ऊंचाई पर ले जाता है. माँ कालीखोह मंदिर स्थित रोप-वे 37 मीटर की ऊंचाई तक ले जाता है. इसकी लंबाई 167 मीटर है. रोप-वे से श्रद्धालुओं को काफी सुविधा होगी. 

स्थानीय स्तर पर रोजगार मुहैया कराने के मामले में पर्यटन सर्वाधिक संभावनाओं वाला क्षेत्र है. विंध्यधाम में पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं की सुविधा और सुरक्षा के मद्देनजर होने वाले कार्यों से भी स्थानीय स्तर पर रोजगार के मौके बढेंगे.  निर्माण कार्यों में स्थानीय श्रमिकों को अल्पकालिक रोजगार मिलेगा. 

विंध्य क्षेत्र ऐतिहासिक, आध्यात्मिक एवं प्राकृतिक धरोहरों से समृद्ध अनूठा क्षेत्र है. यहां एक ओर विंध्य पर्वत श्रृंखला है.  दूसरी ओर ऐतिहासिक किलों-भवनों, गुफाओं, भित्तिचित्रों, शैलाश्रयों, अति प्राचीन जीवाश्मों, मनोरम वन्यजीवन व कल-कल करते झरने प्राकृतिक रूप से इसे बेहद सुंदर बनाते हैं.  देश के 51 शक्तिपीठों में से एक आदिशक्ति माँ विंध्यवासिनी देश और दुनिया के हिंदुओं के आस्था का केंद्र हैं.  मान्यता है कि इस शक्तिपीठ का अस्तित्व सृष्टि का आरंभ होने के पूर्व से है और प्रलय के बाद भी रहेगा. यहां जगतजननी देवी के तीन रूपों के दर्शन का सौभाग्य भक्तों को प्राप्त होता है. त्रिकोण यंत्र पर स्थित विंध्याचल निवासिनी देवी लोकहिताय महालक्ष्मी, महाकाली तथा महासरस्वती का रूप धारण करती हैं. विंध्याचल ही दुनिया में एक मात्र ऐसा स्थान है जहां देवी के पूरे विग्रह के दर्शन होते हैं.  पुराणों में विंध्य क्षेत्र का महत्व तपोभूमि के रूप में वर्णित है. नवरात्र में यहां देश के कोने-कोने से लाखों श्रद्धालु मां के दर्शन के लिए आते हैं. विंध्य क्षेत्र कजरी के लिए भी प्रसिद्ध है. इसे माँ कजला देवी के साथ जोड़ कर देखा जाता है.

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज