पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अल्लाह वाले अभिषेक के बिगड़े बोल

WebdeskJun 21, 2021, 04:02 PM IST

अल्लाह वाले अभिषेक के बिगड़े बोल

ऐसा लगता है कि अभिषेक मनु सिंघवी ने अपने पिता लक्ष्मीमल्ल सिंघवी से कुछ भी नहीं सीखा है। यदि वे ऐसा करते तो यह बिल्कुल नहीं कहते, ''ॐ के उच्चारण से न तो योग अधिक शक्तिशाली हो जाएगा, न ही अल्लाह के नाम से योग की शक्ति कम हो जाएगी।'' अभिषेक इस पर कुछ नहीं बोलते तो उनकी शक्ति जरूर बरकरार रहती।

एक बार फिर से यह बात साबित हो गई है कि कांग्रेस को योग दिवस मनाना बिल्कुल पसंद नहीं है। आज वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने एक ट्वीट करते हुए लिखा है,''ॐ के उच्चारण से न तो योग अधिक शक्तिशाली हो जाएगा, न ही अल्लाह के उच्चारण से योग की शक्ति कम हो जाएगी।'' इस पर योग गुरु स्वामी रामदेव ने इन शब्दों में प्रतिक्रिया दी है,   ''अल्लाह, भगवान, खुदा सब एक ही हैं। ऐसे में ॐ बोलने में दिक्कत क्या है, लेकिन हम किसी को भी खुदा बोलने से मना नहीं कर रहे हैं।'' इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि  इन सभी को भी योग करना चाहिए, फिर इन सभी को एक ही परमात्मा दिखेगा।
वहीं वरिष्ठ भाजपा नेेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है, ''छुटभैये नेता के ट्वीट से योग की मान्यता खत्म नहीं हो जाएगी।'' वहीं इस ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया में सिंघवी की जबर्दस्त खिंचाई हो रही है। एक व्यक्ति ने लिखा है, ''ॐ की जगह सोनिया गांधी या राहुल गांधी का नाम लेने से योग शक्तिशाली हो जाता है।''
सिंघवी ने ऐसी बातें उस समय कही हैं, जब पूरी दुनिया आज योग दिवस मना रही है। अभिषेक की इस बात से कई लोग कह रहे हैं कि उन्होंने अपने पिता लक्ष्मीमल्ल सिंघवी से कुछ भी नहीं सीखा है। अब तो लक्ष्मीमल्ल जी इस दुनिया में रहे नहीं। इसलिए सीखने की सारी संभावनाएं भी खत्म हो गई हैं। अत: अभिषेक ऐसी कुछ और बातें बोल दें तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि लक्ष्मीमल्ल सिंघवी भारतीय संस्कृति के उद्भट ज्ञाता थे। यही कारण है कि जब इंदिरा गांधी ने भाररतीय संविधान में 'धर्मनिरपेक्ष' शब्द जोड़ने की बात कही तो उस समय लक्ष्मीमल्ल जी ने उन्हें कहा था कि 'धर्मनिरपेक्ष' शब्द भारतीय संस्कृति के अनुसार सही नहीं है, हां, इसकी जगह 'पंथनिरपेक्ष' शब्द हो सकता है। इंदिरा गांधी ने उनकी सलाह मानकर संविधान में 'पंथनिरपेक्ष' शब्द जुड़वाया, लेकिन आज के सेकुलर नेता धर्मनिरपेक्ष शब्द जानबूझकर बोलते हैं। स्वामी रामदेव ने ठीक ही कहा है कि हे भगवन ऐसे लोगों को सन्मति दें।

Comments
user profile image
Anonymous
on Jun 21 2021 21:42:44

ये सिंघीवी सहाब का दोष नही ये कांग्रेस की जन्मजात मानसिकता है। ये इनके संस्कार है तुष्टिकरण इनकी रग रग में भरा हुआ है। इनके यंहा जो भी रहेगा उन्हें इस तरह की अनर्गल बयान देने होंगे, गांधी परिवार का गुणानुवाद करना होगा और अपनी राजनीति की दुकान चलानी होगी।

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज