पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

बांग्लादेश: जिहादियों ने मंदिरों को निशाना बनाते हुए देव मूर्तियों को किया खंडित, 100 से अधिक हिन्दुओं के घरों में लूटपाट कर लगाई आग

WebdeskAug 09, 2021, 01:28 PM IST

बांग्लादेश: जिहादियों ने मंदिरों को निशाना बनाते हुए देव मूर्तियों को किया खंडित, 100 से अधिक हिन्दुओं के घरों में लूटपाट कर लगाई आग


बांग्लादेश स्थित खुलना में जिहादियों ने एक विवाद के बाद चार हिन्दू मंदिरों पर हमला किया। अराजक तत्वों ने न केवल देव मूर्तियों को खंडित किया बल्कि हिन्दू समुदाय के घर, दुकान और प्रतिष्ठान को भी जमकर नुकसान पहुंचाया। खबरों के अनुसार जिहादियों ने इस दौरान 100 से अधिक घरों में लूटपाट की और उन्हें आग के हवाले कर दिया



पाकिस्तान के रहीमयार खान में मुसलमानों द्वारा हिन्दुओं के एक मंदिर को तोड़े सप्ताह भी नहीं गुजरा था कि अब बांग्लादेश से भी ऐसी ही घटना प्रकाश में आ रही है। खबरों के अनुसार बांग्लादेश स्थित खुलना जिले में जिहादियों ने एक विवाद के बाद चार हिन्दू मंदिरों पर हमला किया। इस दौरान अराजक तत्वों ने न केवल देव मूर्तियों को खंडित किया बल्कि निकट के हिन्दू समुदाय के घर, दुकान और प्रतिष्ठान को भी जमकर नुकसान पहुंचाया। इस दौरान करीब 100 से अधिक घरों को भी जिहादियों ने आग के हवाले कर दिया और हिन्दू परिवारों को निशाना बनाया। हमले में 30 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं, जिनका इलाज सदर हॉस्पिटल में चल रहा है। घटना में कट्टरपंथी संगठन हिफाजत-ए-इस्‍लाम का नाम सामने आ रहा है, जिसके तार सीधे पाकिस्‍तान और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े हुए हैं।


दरअसल, घटना गत शनिवार को रूपशा उपजिला के शियाली गांव की है। खबरों के अनुसार हिंदू एक धार्मिक जुलूस निकालना चाहते थे, जिसका सिआली गांव की एक मस्जिद के मौलवी ने विरोध किया। इसके बाद कट्टरपंथियों की भीड़ ने हमला कर दिया। इस दौरान जिहादियों ने कम से कम 50 हिंदू घरों को निशाना बनाया और 4 मंदिरों— हरि मंदिर, दुर्गा मंदिर और गोविंदा मंदिर में जमकर तोड़फोड़ की। इन मंदिरों में रखी 10 से अधिक देवमूर्तियों को खंडित कर दिया। पुलिस ने घटना के संबंध में 10 लोगों को हिरासत में लिया है।

कट्टरपंथी संगठन है हिफाजत-ए-इस्‍लाम

बता दें कि हिफाजत-ए-इस्‍लाम ने कुछ समय पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बांग्‍लादेश यात्रा के दौरान जमकर हिंसा की थी। इस दौरान कई लोग मारे भी गए थे। तब बांग्‍लादेश सरकार ने कट्टरपंथी संगठन के लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की थी। ज्ञात हो कि हिफाजत-ए-इस्लाम का गठन 2010 में बांग्लादेश के मदरसा शिक्षकों और छात्रों को मिलाकर किया गया था। यह एक कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन है, जिसकी अधिकतर फंडिंग पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी करती है।

 

https://t.me/epanchjanya

Comments

Also read: पाकिस्तान के पूर्व राजदूत ने की भारत की तारीफ, जम्मू-कश्मीर में दुबई के निवेश को बताय ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: पाकिस्तान पर एफएटीएफ की मार, 'ग्रे लिस्ट' से बाहर नहीं हुआ आतंकियों का इस्लामी पहरेदा ..

अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, लोग हो रहे अवसाद के शिकार, 70 हजार मस्जिदों ने कम की लाउडस्पीकरों की आवाज
क्या इस्लामिक नहीं, सेक्युलर देश बनेगा बांग्लादेश! हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद के बीच बांग्लादेश के मंत्री ने दिया बयान

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम

पाकिस्तान में गत अगस्त माह में रहीम यार खान सूबे में मजहबी उन्मादियों द्वारा मशहूर सिद्धिविनायक गणेश मंदिर को तोड़े जाने के बाद इमरान सरकार ने सात प्राचीन मंदिरों के भी पुनरुद्धार का वादा किया था पाकिस्तान में कम से कम सात प्राचीन मंदिर ऐसे हैं जो पिछले 75 साल से बंद पड़े हैं। कुछ दिन पहले पाकिस्तान ने इनकी मरम्मत करके जीर्णोद्धार करने के बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन वहां जिस सड़क निर्माण विभाग के अंतर्गत यह काम आता है उसमें भ्रष्टाचार इतना चरम पर पहुंचा हुआ है कि उसकी सारी योजनाएं धरी रह ग ...

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम