पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

भारत-चीन सीमा पर टिप्‍पणी का मामला, वी.के. सिंह के खिलाफ याचिका खारिज

WebdeskJul 02, 2021, 03:56 PM IST

भारत-चीन सीमा पर टिप्‍पणी का मामला, वी.के. सिंह के खिलाफ याचिका खारिज

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने केंद्रीय मंत्री वी.के. सिंह के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने वाली एक जनहित याचिका को गुरुवार को खारिज कर दिया। इसमें आरोप लगाया गया था कि उन्‍होंने कथित तौर पर कहा था कि चीन की तुलना में भारत ने अधिक बार वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार किया है। यह याचिका तमिलनाडु के एक सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखरन रामासामी ने दाखिल की थी।

मुख्‍य न्‍यायाधीश (सीजेआई) की अध्यक्षता वाली पीठ ने याचिका पर विचार करने से इनकार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री इस पर गौर करेंगे। अदालत इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकती। पीठ ने याचिका को खारिज करते हुए कहा, "अगर आपको किसी मंत्री का बयान पसंद नहीं है तो आप एक याचिका दायर कर सकते हैं और उनसे इसे वापस लेने को कह सकते हैं। अगर वह अच्छा नहीं है, तो प्रधानमंत्री इस पर गौर करेंगे।"

केंद्रीय मंत्री वी.के सिंह के 7 फरवरी, 2021 के बयान को आधार बनाते हुए यह याचिका दाखिल की गई थी। दिया था। इसमें कहा गया था कि पूर्व सेना प्रमुख ने कहा था, ‘मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं, अगर चीन ने 10 बार उल्‍लंघन किया है तो हमने कम से कम 50 बार ऐसा किया होगा।’ चीन ने उनके इस बयान को भारत द्वारा ‘अनजाने में स्‍वीकारोक्ति’ करार दिया था। याचिकाकर्ता का कहना था कि वी.के सिंह का यह बयान एक मंत्री के तौर पर लिए गए शपथ का उल्‍लंघन है। इसके अलावा, यह बयान विश्व स्तर पर भारत की स्थिति को कमजोर करने वाला तथा चीन को भारतीय क्षेत्र में अपने अतिक्रमण को सही ठहराने का अवसर प्रदान करता है।

इस आधार पर याचिकाकर्ता ने केंद्रीय मंत्री के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की थी। याचिकाकर्ता का तर्क था कि अगर उन्‍होंने इस्तीफा नहीं दिया या उन्हें हटाया नहीं गया तो अदालत को ‘‘राष्ट्र-विरोधी कानून के अनुसार उनके खिलाफ उपयुक्त कार्रवाई करनी चाहिए और सत्ता में बैठे लोगों के लिए मानक निर्धारित करना चाहिए कि क्या कहना है, कैसे सावधानीपूर्वक और सही तरीके से बयान देना है।’’
 
    

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Jul 04 2021 15:31:34

सेना पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं ये तुचछ मा नशिक्ता वाले लोग हैं

user profile image
Anonymous
on Jul 03 2021 18:43:37

याचीका दायर करने वाले व्यक्ति असल में चीन भक्त और स्टालिन भक्त है।केंद्रीय मंत्री जी का बयान से देश की जनता का चीन के प्रति भय चला जायेगा जो अब तक देश की जनता में धर्मनिरपेक्ष सरकारों ने चीन का डर दिखा कर चीन को आगे कर रखा था अब चीन को टकराना पड़ रहाहै

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज