पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

COVID लहर : भारतीय रेलयात्रियों के पास अब यह स्वादिष्ट और सुरक्षित विकल्प

WebdeskJun 09, 2021, 07:51 PM IST

COVID लहर : भारतीय रेलयात्रियों के पास अब यह स्वादिष्ट और सुरक्षित विकल्प

RailRestro, IRCTC का एक अधिकृत इ-कैटरिंग पार्टनर है। यह कंपनी विभिन्न प्रकार के भारतीय व्यंजनों जैसे – उत्तर भारतीय और दक्षिण भारतीय भोजन के साथ-साथ इटालियन, चायनीज़, जैन आहार, और बेबीफ़ूड की डिलीवरी भी आपके सीट पर करती है। रेलयात्री अब ट्रेन में ही सफर के दौरान स्वादिष्ट और स्वच्छ भोजन का आनंद ले सकते हैं।

    COVID-19 लहर के दौरान RailRestro ट्रेन में भोजन परोसने के समय अतिरिक्त सावधानी बरत रही है। यह कंपनी ट्रेन में संपर्करहित भोजन की डिलीवरी (No Contact Food Delivery) करती हैI
    संपर्करहित डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए सभी डिलीवरी बॉय को प्रशिक्षित किया जाता है और उन्हें निम्नलिखित सुरक्षा दिशानिर्देशों को पूरा करने का निर्देश दिया जाता है:

         डिलीवरी बॉय को केवल हाथ धोने और अच्छी तरह से सेनिटाईज़ करने के बाद ही फ़ूड पैकेट लेने की अनुमति हैI
        प्रत्येक फूड डिलीवरी से पहले, डिलीवरी बैग को ठीक से साफ और सेनिटाईज़ किया जाता है ताकि कोरोना वायरस अथवा किसी अन्य प्रकार के संक्रमण से बचा जा सकेI
        सभी डिलीवरी बॉय को 'आरोग्य सेतु' ऐप का उपयोग करना आवश्यक हैI उनके फोन पर "आरोग्य सेतु" ऐप इंस्टॉल होना चाहिए, अन्यथा उन्हें ट्रेन में खाना पहुंचाने की अनुमति नहीं होगी।
        सभी डिलीवरी बॉय को भोजन वितरित करते समय फेसमास्क और हाथ दस्ताने पहनना अनिवार्य हैI
        फ़ूड पैकेट की डिलीवरी करते समय, RailRestro के डिलीवरी बॉय यह सुनिश्चित करते हैं कि यात्रियों के साथ कोई संपर्क न हो। वे फ़ूड पैकेट को बर्थ पर रख देते हैं और फिर यात्रियों से इसे लेने के लिए अनुरोध करते हैं।

        इसके अतिरिक्त, RailRestro ने केवल उन्हीं रेस्त्रां के साथ संयोजन किया है जो FSSAI से अनुमोदन प्राप्त हैं तथा सरकार द्वारा जारी स्वच्छता दिशानिर्देशों जैसे – खाद्य सामग्रियों का उचित रखरखाव, उनका परिवहन एवं गुणवत्ता सुनिश्चित करना आदि का समुचित पालन करते हैंI
    RailRestro ने कोरोना लहर में संक्रमण से बचाव के लिए खाना के पैकिंग पर विशेष ध्यान दिया हैI साथ ही यात्रियों से आग्रह किया गया कि वे डिलीवरी पैकेट लेने के तुरंत बाद फ़ूड पैकेट के बाहरी कवर को निकालकर कचड़े के डिब्बे में फेंक देंI ऐसा करके Coronavirus के संक्रमण को रोकने के साथ-साथ वे सुरक्षित तरीके से ट्रेन में यात्रियों को खाना पहुँचा रहे हैंI  
    COVID महामारी के दौरान RailRestro ब्रांड पर ग्राहकों का भरोसा बढ़ा हैI कम रेलगाड़ियों का परिचालन होने पर भी RailRestro ने ट्रेन में भोजन उपलब्ध करवाए रखना जारी रखाI विदित हो कि Corona लहर के दौरान सुरक्षा के मद्देनज़र IRCTC द्वारा ट्रेनों में खाना देना बंद कर दिया गया थाI यात्रियों के लिए यह परेशानी बढ़ाने वाला कदम था क्योंकि अमूमन स्टेशन परिसर के स्टॉल पर उपलब्ध खाना की गुणवत्ता और शुद्धता की कोई गारंटी नहीं होतीI ऐसी परिस्थिति में यात्रियों को ट्रेन में शुद्ध और ताज़ा खाना उपलब्ध कराना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है जिसे यह कंपनी बख़ूबी अंजाम दे रही हैI
    यात्रियों में RailRestro की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अभी तक इसने 60 लाख से अधिक फ़ूड डिलीवरी भारतीय रेल के विभिन्न ट्रेनों पर किया है।

(एडवरटोरियल : यह panchjanya.com की सम्पादकीय सामग्री नहीं है)

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज