पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

श्रद्धांजलि

1983 में विश्वकप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे क्रिकेटर यशपाल शर्मा का निधन

WebdeskJul 13, 2021, 06:58 PM IST

1983 में विश्वकप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे क्रिकेटर यशपाल शर्मा का निधन

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व टेस्ट बल्लेबाज और 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य यशपाल शर्मा का मंगलवार को नोएडा में उनके घर पर निधन हो गया। वह 66 वर्ष के थे। उन्हें दिल का दौरा पड़ा था


उन्होंने अपने करियर में भारत के लिए 37 टेस्ट और 42 वनडे खेले। टेस्ट क्रिकेट में 2 शतक के साथ उन्होंने 1,606 रन बनाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नरेंद्र मोदी ने यशपाल शर्मा के निधन पर श्रद्धांजलि दी और कहा कि आपका खेल प्रेरणा देता रहेगा। शर्मा के निधन पर उनके साथी और 83 वाली टीम के कप्‍तान कपिल देव की आंखें नम हो गईं। उन्‍होंने एक चैनल से बातचीत में कहा कि पिछले हफ्ते ही उनकी यशपाल से मुलाकात हुई थी। मुझे तो अभी भी लग रहा है कि ये सच नहीं है। समझ ही नहीं आ रहा मुझे। अभी हम पिछले हफ्ते मिले थे। भगवान की जो मर्जी से है, उससे हम लड़ नहीं सकते।

शर्मा 1983 में इंग्लैंड में विश्व कप जीतने वाली टीम के एक महत्वपूर्ण सदस्य थे। दिल्ली के बल्लेबाज टूर्नामेंट में कप्तान कपिल देव के बाद भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज थे। उन्होंने दो अर्धशतकों के साथ 8 पारियों में 240 रन बनाए।

पूर्व बल्लेबाज ने 1979 में इंग्लैंड के दौरे पर भारत के लिए टेस्ट डेब्यू किया और अक्टूबर 1983 में अपने 37 टेस्ट में से आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेला। उन्होंने दिल्ली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद शतक बनाया, जबकि उनका सर्वोच्च टेस्ट स्कोर 140 था जो  चेन्नै में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया गया था। कई पूर्व क्रिकेटरों ने शर्मा के निधन पर अपना शोक व्यक्त किया।
 

Follow Us on Telegram

 

Comments

Also read: स्मृति शेष : कल्याण सिंह : धर्म-संस्कृति के ध्वजवाहक ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: स्मृति शेष : गीत-गजल का लोकप्रिय स्वर कुंअर बेचैन : तुम्हें वंदन हमारी आस्था का ..

स्मृति शेष : सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के प्रखर प्रवक्ता विमल लाठ- लोक-यात्रा का अविस्मरणीय पथिक
नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार भगवतीधर वाजपेयी

रोहित की मृत्यु पर उपहास उड़ा रहे कथित मानवाधिकारवादी और कट्टरपंथी, बेटियों के लिए लिखा—मर जाएं, हत्यारे बाप की औलादें हैं, रहेंगे तो मुश्किल ही करेंगे

कथित मानवाधिकारवादियों, प्रगतिशीलों और कट्टरपंथियों की एक बड़ी जमात रोहित सरदाना और उनके परिवार के लिए अपशब्द लिख रही है। मानवीय संवेदनाओं का उपहास उड़ाता यह व्यवहार मानवाधिकार और प्रगतिशीलता के नाम पर चल रही दुकानों की समाज में रही—सही प्रतिष्ठा को भी तार—तार कर रहा है। भारतीय जन संचार संस्थान के छात्र रहे मृत्युंजय कुमार पत्रकारिता के उन हजारों छात्रों में से एक हैं, जो रोहित सरदाना की पत्रकारिता से प्रभावित रहे हैं। आज रोहित की मृत्यु की खबर सोशल मीडिया पर आते ही, मानों हर तरफ शोक की लहर ...

रोहित की मृत्यु पर उपहास उड़ा रहे कथित मानवाधिकारवादी और कट्टरपंथी, बेटियों के लिए लिखा—मर जाएं, हत्यारे बाप की औलादें हैं, रहेंगे तो मुश्किल ही करेंगे