पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

विस्थापित कश्मीरी पंडितों को वापस मिलेगी उनकी जमीन

WebdeskAug 23, 2021, 03:18 PM IST

विस्थापित कश्मीरी पंडितों को वापस मिलेगी उनकी जमीन


सरकार ने कश्मीर से विस्थापित हुए कश्मीरी पंडितों को उनकी जमीन वापस लौटाने के लिए एक शिकायत पोर्टल तैयार किया है। इस पर शिकायत कर कश्मीरी पंडित अपनी जमीन वापस ले सकेंगे


1989—90 में आतंकी हिंसा के कारण मजबूर होकर घाटी छोड़कर जाने वाले विस्थापित कश्मीरियों को अब उनकी पुश्तैनी जमीन जायदाद वापस मिलेगी। इसके लिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने एक शिकायत पोर्टल तैयार किया गया है। इस पर देश-विदेश में कहीं भी रहने वाले विस्थापित कश्मीरी अपनी जायदाद के संबंध में शिकायत दर्ज करा सकेंगे। इसमें वह जबरन कब्जे या फिर उनकी जमीन को सस्ते दामों में खरीद लिए जाने की भी शिकायत दर्ज करा सकेंगे।

इस मामले से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आतंकी धमकियों के कारण जब लाखों कश्मीरी पंडितों को घर-बार छोड़कर भागने को मजबूर होना पड़ा तो उनकी संपत्तियों को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी सरकार की थी लेकिन सरकार इसमें विफल रही। उनके मकान, दुकान व अचल संपत्तियों पर कब्जा कर लिया गया। बाद में विस्थापितों को डरा-धमकाकर औने-पौने दामों में उन संपत्तियों को खरीद लिया गया। अब सरकार ने विस्थापितों की ऐसी अचल संपत्तियों को वापस कराने का बीड़ा उठाया है।

बता दें कि इससे 1997 में भी विस्थापित कश्मीरियों की संपत्ति वापस करने के लिए कानून बनाया गया था, लेकिन इस कानून में शिकायतकर्ता को जिलाधिकारी के सामने जाकर शिकायत करनी होती थी। इसके बाद उसे उसकी संपत्ति पर हुए कब्जे का सुबूत देकर उसे वापस पाने के लिए संघर्ष करना पड़ता था। यहां पर प्रशासन की तरफ से उसको सहयोगी नहीं मिल पाता था, नतीजतन एक भी विस्थापित कश्मीरी को उसकी जमीन या संपत्ति वापस नहीं मिल पाई।

इस बार ऐसा नहीं है। शिकायतकर्ता को पोर्टल या सिर्फ अपनी शिकायत देनी होगी। इसके उसे सारी जानकारी देनी होगी कि उसकी पुश्तैनी जमीन, किस गांव, जिले या तहसील में है। शिकायत दर्ज कराने के बाद संबंधित जिले का जिलाधिकारी खुद ईमेल या फोन पर शिकायतकर्ता से संपर्क करेगा और उन्हें वापस दिलाने के लिए कार्रवाई शुरू करेगा। इस बार कश्मीरी विस्थापितों को यह बताने का मौका दिया जाएगा कि उन्हें किन परिस्थितियों में अपनी जमीन— जायदाद को बेचना पड़ा था।शिकायतकर्ता के दावे सही पाए जाने पर प्रशासन उस संपत्ति को वापस लेकर मूल मालिक को लौटाएगा।

Follow Us on Telegram
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 23 2021 17:32:45

sarahniya

user profile image
Anonymous
on Aug 23 2021 16:01:42

Very Good.... Aisa padhkar hi dil khush ho gaya,Jab kaam ho jaayega,to kitni khushi hogi... Main non J and K ka hoon

Also read: उत्तराखंड आपदा ने दस ट्रैकर्स की ली जान, 25 लोग अब भी लापता ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: तालिबान प्रवक्ता ने कहा, भारत करेगा अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के काम ..

मजहबी दंगे भड़काने में कट्टर जमाते-इस्लामी का हाथ, उन्मादी नेता ने उगला सच
रावण क्यों जलाया, अब तुम लोगों की खैर नहीं

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच

बरेली, रामपुर, मुरादाबाद में प्रचार करके बेचे जा रहे हैं प्लॉट। पूर्व सांसद बलराज पासी ने कहा विरोध होगा उत्तराखंड के उधमसिंह नगर जिले में उत्तर प्रदेश के बरेली रामपुर जिलो के बॉर्डर पर सुनियोजित ढंग से एक साजिश के तहत मुस्लिम आबादी को बसाया जा रहा है। मुस्लिम कॉलोनी का प्रचार करके प्लॉट बेचे जा रहे हैं। मामले सामने आने पर जिला विकास प्राधिकरण ने जांच शुरू कर दी है। पिछले कुछ समय से उत्तराखंड राज्य में मुस्लिम आबादी तेजी से बढ़ने के आंकड़े आ रहे हैं। असम के बाद उत्तराखंड ऐसा राज्य है, जहां ...

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच