पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

विदेश : वुहान लैब से ही निकला कोरोना वायरस, अमेरिकी रिपब्लिकन कमेटी की रपट का दावा

WebdeskAug 03, 2021, 03:48 PM IST

विदेश : वुहान लैब से ही निकला कोरोना वायरस, अमेरिकी रिपब्लिकन कमेटी की रपट का दावा

कोरोना की उत्पत्ति का स्थान वुहान लैब। (प्रकोष्ठ में) सांसद माइकल मैककॉल


शातिर ड्रेगन ने वुहान लैब से कोरोना वायरस के लीक होने के कयासों से सदा इंकार ही किया है जबकि सब जानते हैं कि उसने इस महामारी की उत्पत्ति से जुड़ा तमाम डाटा बर्बाद कर दिया है। अब अमेरिका की रिपब्लिकन कमेटी ने सबूतों के आधार पर रपट जारी करके कहा है कि कोरोना वायरस वुहान लैब से ही निकला है



कोरोना वायरस वुहान लैब से ही निकला है इसकी एक बार फिर से पुष्टि हुई है अमेरिका से जारी हुई एक रपट में। अमेरिका में रिपब्लिकन पार्टी की रपट का दावा है कि कोरोना वायरस की उत्‍पत्ति चीन में और वह भी वुहान लैब में हुई है। बता दें कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन का जांच दल कोरोना की उत्‍पत्ति का पता करने चीन की वुहान लैब का दौरा करने गया था, लेकिन उसने वहां से इस वायरस के लीक होने की थ्योरी से इंकार किया था।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका की रिपब्लिकन पार्टी की यह रिपोर्ट दावा सीधे सीधे चीन को कठघरे में खड़ा करती है। इससे पहले अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने तो चीन पर सीधा आरोप लगाया था कि कोरोना की उत्‍पत्ति के पीछे वही जिम्मेदार है, उसने ही वुहान लैब में इसे तैयार करके छोड़ा है। ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की निष्पक्षता पर भी सवाल खड़ा किया था और उसको दिए जाने वाले अनुदान को रोकने के आदेश दिए थे। लेकिन उनके बाद अमेरिका के राष्‍ट्रपति पद पर आए जो बाइडेन भी ट्रंप के मत के साथ खड़े रहे और उन्होंने वुहान लैब की दोबारा जांच की मांग की थी।

2 अगस्त को जारी हुई इस नई रपट में कहा गया है कि कोरोना के पीछे जिम्मेदार कोरोना वायरस चीन की वुहान लैब की उपज है। रिपोर्ट में इस थ्योरी को बेबुनियाद बताया गया है कि कोरोना का वायरस वुहान के ही सीफूड बाजार से निकला है। रपट के अनुसार, इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि वायरस सितंबर 2019 से पहले ही वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से लीक हो चुका था। लेकिन तब इस महामारी पर दुनिया का खास ध्यान नहीं गया था।

रपट वुहान सीफूड बाजार को वायरस का मूल स्रोत मानने से इंकार करते हुए कहती है कि प्राप्त सबूत साफ बताते हैं कि कोरोना वायरस वुहान लैब से लीक हुआ और वह भी सितंबर, 2019 से थोड़ा पहले। यह रपट तैयार की सदन की विदेश मामलों की कमेटी में सदस्यों ने और जारी की कमेटी के सबसे वरिष्ठ रिपब्लिकन सांसद माइकल मैककॉल ने। माइक ने मांग की कि दोनों दल मिलकर कोरोना वायरस की उत्‍पत्ति की जांच करें।

रपट बताती है कि वुहान लैब में सुरक्षा की व्यवस्था ठीक नहीं थी। जुलाई, 2019 में मलबा संस्करण तंत्र के लिए 1.5 मिलियन डॉलर की राशि मांगी गई थी। कहा गया है कि वुहान लैब में चीन के वैज्ञानिक कोरोना वायरस में रिवर्स इंजीनियरिंग पर काम कर रहे थे जिससे यह इंसानों को संक्रमित कर सके। वुहान लैब को अमेरिका और चीन की सरकार, दोनों से काफी मोटा अनुदान मिल रहा था।

यह कोई छिपी बात नहीं है कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी गुप्तचर एजेंसियों को कोरोना वायरस का स्रोत पता लगाने का काम दिया हुआ है। माइकल की भी तकरीबन ऐसा ही एक प्रयास है। बता दें कि वुहान में ही दिसंबर 2019 में कोविड महामारी का पहला मामला देखेने में आया था।

रपट वुहान सीफूड बाजार को वायरस का मूल स्रोत मानने से इंकार करते हुए कहती है कि प्राप्त सबूत साफ बताते हैं कि कोरोना वायरस वुहान लैब से लीक हुआ और वह भी सितंबर, 2019 से थोड़ा पहले। यह रपट तैयार की सदन की विदेश मामलों की कमेटी में सदस्यों ने और जारी की कमेटी के सबसे वरिष्ठ रिपब्लिकन सांसद माइकल मैककॉल ने।

Follow Us on Telegram

Comments

Also read: उत्तराखंड आपदा ने दस ट्रैकर्स की ली जान, 25 लोग अब भी लापता ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: तालिबान प्रवक्ता ने कहा, भारत करेगा अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के काम ..

मजहबी दंगे भड़काने में कट्टर जमाते-इस्लामी का हाथ, उन्मादी नेता ने उगला सच
रावण क्यों जलाया, अब तुम लोगों की खैर नहीं

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच

बरेली, रामपुर, मुरादाबाद में प्रचार करके बेचे जा रहे हैं प्लॉट। पूर्व सांसद बलराज पासी ने कहा विरोध होगा उत्तराखंड के उधमसिंह नगर जिले में उत्तर प्रदेश के बरेली रामपुर जिलो के बॉर्डर पर सुनियोजित ढंग से एक साजिश के तहत मुस्लिम आबादी को बसाया जा रहा है। मुस्लिम कॉलोनी का प्रचार करके प्लॉट बेचे जा रहे हैं। मामले सामने आने पर जिला विकास प्राधिकरण ने जांच शुरू कर दी है। पिछले कुछ समय से उत्तराखंड राज्य में मुस्लिम आबादी तेजी से बढ़ने के आंकड़े आ रहे हैं। असम के बाद उत्तराखंड ऐसा राज्य है, जहां ...

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच