पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

‘पंज प्‍यारे’ बयान को लेकर हरीश रावत ने माफी मांगी

WebdeskSep 01, 2021, 05:32 PM IST

‘पंज प्‍यारे’ बयान को लेकर हरीश रावत ने माफी मांगी
हरीश रावत


पंजाब कांग्रेस में जारी घमासान खत्‍म करने के लिए मंगलवार को चंडीगढ़ पहुंचे पंजाब के प्रभारी हरीश रावत नई मुसीबत में फंस गए। उन्‍होंने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्षों की तुलना ‘पंज प्यारे’ से कर दी। इस पर आपत्ति जताते हुए शिरोमणि अकाली दल ने उनसे माफी मांगने को कहा था। रावत ने बुधवार को माफी मांगते हुए कहा कि वह अपने शब्द वापस ले रहे हैं।


रावत ने मीडिया से कहा, मैंने उस शब्द (पंज प्यारे) का इस्तेमाल एक सम्मानित व्यक्ति के लिए एक संदर्भ के रूप में किया था। फिर भी अगर मेरे शब्दों से किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है, तो मैं माफी मांगता हूं और अपने शब्दों को वापस लेता हूं। प्रायश्चित के लिए मैं अपने राज्‍य (उत्‍तराखंड) में गुरुद्वारे में झाड़ू लगाऊंगा।’’

दरअसल, रावत ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों को 'पंज प्यारे' कहकर संबोधित किया था। उन्‍होंने कहा था, 'पीसीसी चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों यानी पंज प्यारे के साथ चर्चा करना मेरी जिम्मेदारी है। सिद्धू ने मुझे बताया है कि चुनाव, संगठन को विस्तार दिया जाएगा। पीसीसी काम कर रही है, निश्चिंत रहें। जहां तक मुझे पता है, सिद्धू पीसीसी के पहले अध्यक्ष हैं, जो पार्टी के सभी संगठनों के साथ बैठक कर रहे हैं। साथ ही समस्याओं के समाधान को लेकर काम भी कर रहे हैं।' इस पर शिरोमणि अकाली दल के नेता दलजीत सिंह चीमा ने आपत्ति जताते हुए उनसे माफी मांगने को कहा था। उन्‍होंने कहा कि ऐसा करके हरीश रावत ने सिख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। उन्हें पता होना चाहिए कि सिखों के लिए ‘पंज प्यारे’ का क्या महत्व है। यह कोई मजाक नहीं है, उन्हें माफी मांगनी चाहिए। मैं पंजाब सरकार से अपील करता हूं कि रावत के खिलाफ केस दर्ज करें।'

image.png

 

Comments

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्र ..

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया
सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प

  विजयादशमी के महानायक श्रीराम भारतीय जनमानस की आस्था और जीवन मूल्यों के अन्यतम प्रतीक हैं। भारतीय मनीषा उन्हें संस्कृति पुरुष के रूप में पूजती है। उनका आदर्श चरित्र युगों-युगों से भारतीय जनमानस को सत्पथ पर चलने की प्रेरणा देता आ रहा है। शौर्य के इस महापर्व में विजय के साथ संयोजित दशम संख्या में सांकेतिक रहस्य संजोये हुए हैं। हिंदू तत्वदर्शन के मनीषियों की मान्यता है कि जो व्यक्ति अपनी आत्मशक्ति के प्रभाव से अपनी दसों इंद्रियों पर अपना नियंत्रण रखने में सक्षम होता है, विजयश्री उसका वरण अवश ...

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प