पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

कोरोना की दोनों डोज लगी हैं तो एक लाख में केवल छह लोगों को ही जान जाने का खतरा

WebdeskJul 13, 2021, 06:46 PM IST

कोरोना की दोनों डोज लगी हैं तो एक लाख में केवल छह लोगों को ही जान जाने का खतरा

कोरोना की दूसरी लहर में सामने आया है कि जिन लोगों ने कोरोना की दोनों डोज ली हुई थीं उन्हें अस्पताल में जाने की जरूरत नहीं पड़ी। इसके अलावा एक डोज लेने वाले व्यक्ति की हालत में ज्यादा खराब नहीं हुई


कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए कोरोना की वैक्सीन लेने बेहद जरूरी है। ऐसे में लापरवाही न करें और तत्काल वैक्सीन लगवाएं। हाल ही में एक शोध सामने आया है जिसमें बताया गया है कि कोरोना की दोनों वैक्सीन लेने वाले लोगों को कोरोना से बहुत ज्यादा खतरा नहीं है। यह शोध आईसीएमआर ने फ्रंटलाइन वर्कर्स पर स्टडी करने के बाद सामने आया है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीए
मआर) के डायरेक्टर जनरल डॉ. बलराम भार्गव का कहना है कि हाल ही में देशभर में फ्रंटलाइन वर्कर्स पर एक स्टडी की गई है। इसमें स्टडी में एक लाख से ज्यादा फ्रंटलाइन वर्कर्स को शामिल किया गया था। स्टडी में पाया गया कि वैक्सीन की दोनों डोज कोरोना से होने वाली मौतों के खिलाफ 95 प्रतिशत तक सुरक्षा देती है। वहीं इसकी सिंगल डोज 82 प्रतिशत तक मौतों को रोक सकती है।

उनका कहना है कि अगर व्यक्ति को वैक्सीन की दोनों डोज लगी हो और उसमें कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े को देखा जाए तो एक लाख में से केवल 6 मौतें ही दोनों डोज के बाद हो सकती हैं। वहीं एक डोज के बाद एक लाख में से 21 लोगों की ही जान जा सकती है।

डॉ. भार्गव का कहना है कि हमारी स्टडी में यह भी पाया गया है कि इस वक्त जो वैक्सीन हम देश में लगा रहे हैं, वह अल्फा, डेल्टा जैसे वैरियंट पर कारगर है और लोगों को अच्छी सुरक्षा मिलती है। कोविशील्ड, कोवैक्सीन में से कोई भी वैक्सीन लगवा सकते हैं। वैक्सीन का मकसद कोरोना से होने वाली गंभीरता और मौतों को रोकना है।

Follow Us on Telegram

 

Comments

Also read: भारत 100 करोड़ टीकाकरण के करीब, बड़े समारोह की तैयारी ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: UNHRC में भारी बहुमत से चुना गया भारत ..

साइबर सुरक्षा: जब उपकरण ही बन जाएं खलनायक
इस्लामिक देशों के संगठन ओआईसी ने रोया 'असम' का रोना, हिंसक बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए दिखाई हमदर्दी

COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक

अमेरिका की उप-विदेश मंत्री वेंडी शर्मन ने बुधवार को कहा कि भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच एक ‘अनिवार्य’ साझेदारी है जो कई आयामों के क्षेत्रों को कवर करती है और दोनों देश संयुक्त रूप से किसी भी चुनौती को दूर कर सकते हैं। विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ बैठक के दौरान शर्मन ने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी की हाल की वाशिंगटन यात्रा और एक सप्ताह पहले हुई क्वाड नेताओं के शिखर सम्मेलन ने दिखाया है कि हमारी एक अनिवार्य साझेदारी है। ऐसी कोई चुनौती नहीं है, जिसे संयुक्त राज्य अ ...

COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक