पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

छह वर्ष में सवा छह लाख से अधिक पाकिस्तानी विभिन्न देशों से बाहर किए गए

WebdeskJun 26, 2021, 09:10 PM IST

छह वर्ष में सवा छह लाख से अधिक पाकिस्तानी विभिन्न देशों से बाहर किए गए

    
एक ओर भारतीय नागरिक पूरी दुनिया में अपनी कर्मठता और मेहनत के बल पर सम्मान पा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तानी अपनी हरकतों से कई देशों से बाहर किए जा रहे हैं। एक रपट के अनुसार गत छह वर्ष में 6,18,877 पाकिस्तानी 138 देशों से बाहर किए गए हैं। यह सिलसिला अभी भी जारी है।
 
सऊदी अरब से निकाले जा रहे पाकिस्तानी 
ऐसा माना जाता है कि चाहे आप कहीं भी चले जाएं, आपका स्वभाव नहीं बदल सकता है और जब भी मौका मिलेगा वह प्रकट होगा ही। आपके संस्कार भी वही रहेंगे, जो आपको बड़ों ने सिखाए हैं। आप जानते ही हैं कि पाकिस्तान में किस तरह के संस्कार लोगों को दिए जा रहे हैं। मजहब के नाम पर किसी आतंकवादी को बचाने के लिए छोटे—छोटे बच्चों को बंदूक थमाकर सड़कों पर उतारा जाता है, गैर—मुस्लिमों को मौत के घाट उतारना भी सिखाया जाता है। जब यही बच्चे बड़े होकर काम—धंधे के लिए विदेश जाते हैं, तो वहां भी गलत काम करते हैं। इसलिए दुनिया के अनेक देश अपने यहां से पाकिस्तानियों को भगा रहे हैं। एक जानकारी के अनुसार गत छह वर्ष में 138 देशों से 6,18,877 पाकिस्तानियों को खदेड़ा गया है। प्रतिदिन 300 पाकिस्तानी नागरिक विभिन्न देशों से बाहर किए जा रहे हैं। इनमें वे पाकिस्तानी शामिल हैं, जो वीजा अवधि की समाप्ति के बाद भी किसी दूसरे देश में रह रहे थे या जिनका 'वर्क परमिट' खत्म हो गया था। बहुत सारे ऐसे पाकिस्तानी भी हैं, जो कई तरह के गलत कार्यों या अपराध में शामिल थे।

मजे की बात तो यह है कि लगभग 72 प्रतिशत पाकिस्तानी सऊदी अरब, ओमान, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), कतर, बहरीन, ईरान और तुर्की से वापस भेजे गए हैं। ये सभी देश पाकिस्तान के मित्र देश माने जाते हैं, लेकिन उन्होंने भी पाकिस्तानियों की बदमाशी को बर्दाश्त नहीं किया। पिछले छह साल में सबसे अधिक 3,21,590 पाकिस्तानी सऊदी अरब से वापस पाकिस्तान भेजे गए, जबकि 53,649 पाकिस्तानी यूएई ने वापस भेजे। ईरान ने 1,36,930 पाकिस्तानियों को वापस भेजा है। इनमें अधिकतर घुसपैठिए थे। यानी बिना किसी कागजी कार्रवाई के इन देशों में गए थे। जिस तुर्की को पाकिस्तान अपना आदर्श मानता है, उसने भी इन्हें अपने यहां नहीं रहने दिया। तुर्की ने 32,300 से अधिक पाकिस्तानियों को अपने यहां से निकाला है। ब्रिटेन ने 8,000 से अधिक पाकिस्तानियों को वापस भेजा है। इनमें से ज्यादातर बिना वैध दस्तावेजों के ब्रिटेन में रह रहे थे। अमेरिका ने भी अवैध रूप से रह रहे 1,700 पाकिस्तानियों को अपने यहां से बाहर किया है। रूस ने छह वर्ष में 564 पाकिस्तानियों को खदेड़ा है। भारत ने भी इसी अवधि में 243 पाकिस्तानियों को वापस भेजा है। यहां तक कि अफगानिस्तान ने भी 13 पाकिस्तानियों को पकड़कर वापस उनके देश भेजा है।

इस अंतरराष्ट्रीय बेइज्जती से सीख लेकर पाकिस्तान सुधर जाए तो और देश भी शांति से रह पाएंगे।

 

Comments

Also read: फेसबुक का एक और काला सच उजागर, रिपोर्ट का दावा-भारत में हिंसा पर खुशी, फर्जी जानकारी ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: जीत के जश्न में पगलाए पाकिस्तानी, नेताओं के उन्मादी बयानों के बाद कराची में हवाई फायर ..

शैकत और रबीउल ने माना, फेसबुक पोस्ट से भड़काई हिंदू विरोधी हिंसा
वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!

खबर है कि चीन अब पाकिस्तान को इस परियोजना से बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना रहा है। इसी वजह से पाकिस्तान इस वक्त इस गलियारे को लेकर सांसत में है और बौखलाहट में बेमतलब के बयान दे रहा है चीन-पाकिस्तान के बीच बड़े ढोल-धमाके के बीच जिस आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर काम चल रहा था, वह ताजा जानकारी के अनुसार, पाकिस्तानी कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में भारी विरोध के चलते डगमगाने लगी है। पिछले दिनों चीनी इंजीनियरों पर जानलेवा हमलों के बाद बीजिंग भी पाकिस्तानी हुक्मरानों से नाराज चल रहा है। एक खबर तो यह भ ...

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!