पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

मुल्ला अखुंदजादा 'सुप्रीम लीडर', बरादर या याकूब बन सकते हैं प्रधानमंत्री

WebdeskSep 01, 2021, 04:34 PM IST

मुल्ला अखुंदजादा 'सुप्रीम लीडर', बरादर या याकूब बन सकते हैं प्रधानमंत्री
मुल्ला अखुंदजादा और मुल्ला बरादर (फाइल चित्र)


चर्चा है कि तालिबान 'पश्चिमी देशों के प्रभाव में बने' देश के वर्तमान संविधान को निरस्त करके 55 साल पुराने संविधान को दुबारा लागू कर सकते हैं



वेब डेस्क
अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी होते ही सरकार बनाने की कवायद तेज हो गई है। ताजा समाचारों के अनुसार, मुल्ला बरादर या मुल्ला याकूब को अफगानिस्तान का प्रधानमंत्री तो मुल्ला अखुंदजादा को ईरान की तर्ज पर 'सुप्रीम लीडर' बनाने के आसार बनते दिख रहे हैं।

पूरी संभावना है कि आने वाले कुछ ही दिन में अफगानिस्तान में कट्टर तालिबान की शरिया को लागू करने वाली सरकार बन सकती है। हालांकि खबर यह भी है कि काबुल, हेरात, हेलमंड, कंधार आदि स्थानों पर शरिया का कोड़ा चलाया जाने लगा है।

सूत्रों के अनुसार, अफगानिस्तान में नई बनने वाली तालिबान की सरकार नए 'सुप्रीम लीडर' के तहत चलेगी। नई 'सुप्रीम काउंसिल' में 11 से लेकर 70 सदस्य तक रखे जा सकते हैं। देश के प्रधानमंत्री के लिए मुल्ला बरादर या मुल्ला याकूब के नामों पर उठापटक चल रही है। ये मुल्ला याकूब उसी मुल्ला उमर का कट्टर मजहबी बेटा है जो तालिबान का सरगना रहा था।

अभी तक की जानकारी यही है कि कुछ दिन पहले तक पेशावर में मौजूद बताया जा रहा, मुल्ला अखुन्दज़ादा 'सुप्रीम लीडर' बनने के बाद कंधार में रहने वाला है जबकि प्रधानमंत्री और सरकार के बाकी सदस्य काबुल से काम देखेंगे। चर्चा यह भी है कि तालिबान देश के वर्तमान संविधान को निरस्त करके 55 साल पुराने संविधान को दुबारा लागू कर सकते हैं। इसके पीछे तालिबानी सोच यह है कि वर्तमान संविधान पश्चिमी देशों की सरपरस्ती में बनाया गया था। जैसी कई दिनों से आशंका जताई जा रही थी, पाकिस्तान नई सरकार के गठन में काफी हस्तक्षेप करने की कोशिश में है। उसकी कोशिश है कि उसकी हुकूमत के प्रति नरम रुख रखने वाले मजहबी नेताओं को बड़े वाले मंत्रालय दिए जाएं।

सरकार बनाने को लेकर दोहा से कंधार तक तालिबानी सरगनाओं में चर्चा चल रही है। कट्टर मजहबियों का मानना है कि सरकार में कट्टर सोच वाले लोग ही लिए जाएं। लेकिन, बताते हैं दोहा का गुट दूसरे पक्षों को भी सरकार में ओहदे देने की सोचता है। 


सरकार बनाने को लेकर दोहा से कंधार तक तालिबानी सरगनाओं में चर्चा चल रही है। कट्टर मजहबियों का मानना है कि सरकार में कट्टर सोच वाले लोग ही लिए जाएं। लेकिन, बताते हैं दोहा का गुट दूसरे पक्षों को भी सरकार में ओहदे देने की सोचता है।

यह भी संभव है कि गैर तालिबानी गुट वालों को 'सुप्रीम काउंसिल' के साथ ही कुछ मंत्रालयों में भी कहीं रखा जाए। उधर मसूद की अगुआई वाला 'नार्दन एलायंस' भी सरकार में हिस्सेदारी की चाहत रखता है। तालिबान और उसके बीच इस बारे में बातचीत कई दिन से चल रही है, लेकिन अभी तक कोई नतीजा सामने नहीं आया है।




 

 
 

Comments

Also read: चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: अब 30 से अधिक देशों में मान्य हुआ भारत का कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट ..

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन
दुनिया के 10 बड़े कर्जदारों में शामिल हुआ पाकिस्तान, अब मांगे से भी न मिलेगा कर्जा

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने

स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ठहराया और कहा कि यह उन्होंने 'इस्लाम के कानून के हिसाब' से ही किया है नाइजीरिया के एक इस्लामिक स्कूल में लड़की को चार शिक्षकों द्वारा डंडों से पीटे जाने का वीडियो दुनिया भर में तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल ये शिक्षक उस छात्रा को 'सजा' देते दिख रहे हैं। 'सजा' देने वाले वे चारों पुरुष शिक्षक छात्रा को घेरकर पीटते दिख रहे हैं, जबकि वहां तमाशबीनों का मजमा लगा है। इतना ही नहीं, स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ...

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने