पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

चीन की हेकड़ी के कारण बेनतीजा रही 13वें दौर की सैन्य कमांडर वार्ता, सीमा पर गतिरोध बनाए रखना चाहता है धूर्त चीन

WebdeskOct 12, 2021, 04:54 PM IST

चीन की हेकड़ी के कारण बेनतीजा रही 13वें दौर की सैन्य कमांडर वार्ता, सीमा पर गतिरोध बनाए रखना चाहता है धूर्त चीन
प्रतीकात्मक चित्र


 चीन द्वारा तथ्यों को न मानने और अड़ियल रवैया अपनाए रखने के कारण वार्ता का कोई नतीजा नहीं निकला। इस वार्ता के बाद चीन ने जो बयान जारी किया उससे भी उसने एक तरह से आक्रामक रवैया ही दर्शाया



वेब डेस्क
भारत
ने कायदों और ऐतिहासिक तथ्यों पर कायम रहते हुए, लद्दाख सीमा पर भारत-चीन सैन्य कमांडरों की 13वें दौर की वार्ता में चीन के बेबुनियाद आरोपों को सिरे से नकार दिया। ड्रैगन ने झूठ और गलत तथ्यों के आधार पर भारत पर आरोप लगाया था कि 'भारत के सैनिक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार करके चीन के पाले में आए थे।' चीन के ठीक ऐसे ही झूठे तर्कों की वजह से सीमा पर गतिरोध खत्म करने के लिए दोनों पक्षों के बीच हुई 13वें दौर की बातचीत बिना किसी नतीजे पर पहुंचे खत्म हो गई।

पूर्वी लद्दाख में पिछले साल जून में भारत—चीन सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद से जारी गतिरोध को दूर करने के लिए 10 अक्तूबर को दोनों पक्षों के सैन्य कमांडर तेरहवीं बार मिले थे, लेकिन जैसी आशंका थी, चीन के किसी भी तरह से तथ्यों को न मानने और अड़ियल रवैया अपनाए रखने के कारण वार्ता का कोई नतीजा नहीं निकला। इस वार्ता के बाद 11 अक्तूबर को चीन ने जो बयान जारी किया उससे भी उसने एक तरह से आक्रामक रवैया ही दर्शाया। उसने भारत पर अनुचित तथा गैरव्यावहारिक मांगें रखने का आरोप लगाया। भारत के लद्दाख में कार्प्स कमांडर और चीन के दक्ष्ज्ञिण सिंक्यांग मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट कमांडर के बीच मोल्दो-चुशूल सीमा पर चीनी पाले में यह बैठक हुई थी।

इस वार्ता में भारत ने कई बार चीन के उन आरोपों को खारिज किया जो वास्तविकता से परे थे, जैसे कि भारत के सैनिक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार चीनी हिस्से में गए थे। इस बात पर बल देते हुए नई दिल्ली ने बयान जारी करके कहा है कि भारत सदा से सीमावर्ती क्षेत्र में सीमा प्रबंधन और शांति बनाए रखने के लिए एक जिम्मेदार नजरिया अपनाता आया है।

 भारत ने कई बार चीन के उन आरोपों को खारिज किया जो वास्तविकता से परे थे, जैसे कि भारत के सैनिक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार चीनी हिस्से में गए थे। इस बात पर बल देते हुए नई दिल्ली ने बयान जारी करके कहा है कि भारत सदा से सीमावर्ती क्षेत्र में सीमा प्रबंधन और शांति बनाए रखने के लिए एक जिम्मेदार नजरिया अपनाता आया है।

11 अक्तूबर को ही चीन ने भी एक बयान जारी किया। बयान में पश्चिमी थियेटर कमांड के प्रवक्ता कर्नल लॉन्ग शाओ हुआ को उद्धृत करके लिखा गया है कि 'चीन ने सीमा के हालात को आसान बनाने तथा विवाद को दूर करने के लिए काफी कोशिश की। दोनों सेनाओं के बीच संबंधों को समग्र स्थिति में बनाए रखने की पूरी ईमानदारी से कोशिश की है'। बयान में आगे है कि 'भारत ने अनुचित और अवास्तविक मांगों पर बल दिया, जिससे बातचीत और ज्यादा मुश्किल हो गई'।
चीनी प्रवक्ता का कहना है कि 'भारत को चीन-भारत सीमा क्षेत्र में मुश्किल से प्राप्त हुई स्थिति को बनाए रखना चाहिए तथा दोनों देशों तथा दोनों सेनाओं के बीच प्रासंगिक समझौतों तथा आम सहमति का पालन करना चाहिए। चीन उम्मीद करता है कि भारत ईमानदारी दिखाते हुए कार्रवाई करेगा। साथ ही सीमा क्षेत्र में शांति तथा स्थिरता की संयुक्त तौर पर रक्षा करने के लिए चीन के साथ मिलकर काम करेगा'।

विशेषज्ञों के अनुसार, चीनी के इस बयान से साफ है कि वह भारत-चीन के बीच जारी गतिरोध को बनाए रखने पर आमादा है। धूर्त चीन रिश्ते सुधारने की बजाय तनावपूर्ण बनाए रखने पर कायम है। गत अगस्त माह में भारत और चीन के सैनिक पूर्वी लद्दाख के गोगरा इलाके में पीछे हटे थे। तब इस कार्रवाई को 2021 में सेनाओं के पूर्व स्थिति में वापसी के दूसरे चक्र के तौर पर देखा गया था। इससे करीब छह महीने पहले भारत तथा चीन ने पैंगोंग त्सो झील से अपने-अपने सैनिक पीछे हटाए थे।

 
 

Comments

Also read: चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: अब 30 से अधिक देशों में मान्य हुआ भारत का कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट ..

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन
दुनिया के 10 बड़े कर्जदारों में शामिल हुआ पाकिस्तान, अब मांगे से भी न मिलेगा कर्जा

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने

स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ठहराया और कहा कि यह उन्होंने 'इस्लाम के कानून के हिसाब' से ही किया है नाइजीरिया के एक इस्लामिक स्कूल में लड़की को चार शिक्षकों द्वारा डंडों से पीटे जाने का वीडियो दुनिया भर में तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल ये शिक्षक उस छात्रा को 'सजा' देते दिख रहे हैं। 'सजा' देने वाले वे चारों पुरुष शिक्षक छात्रा को घेरकर पीटते दिख रहे हैं, जबकि वहां तमाशबीनों का मजमा लगा है। इतना ही नहीं, स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ...

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने