पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

नहीं डालेंगे हथियार अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति सालेह, अंगरक्षक से कहा—'घायल हो जाऊं तो मार देना गोली'

WebdeskSep 06, 2021, 01:50 PM IST

नहीं डालेंगे हथियार अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति सालेह, अंगरक्षक से कहा—'घायल हो जाऊं तो मार देना गोली'
अमरुल्ला सालेह (फाइल चित्र)

 


अमरुल्लाह सालेह स्वयं पंजशीर में एक बेहद सुरक्षित ठिकाने पर हैं। वे वहीं से तालिबान के विरुद्ध संघर्ष का बीड़ा उठाए हुए हैं और रेसिस्टेंस फोर्स की अगुआई कर रहे हैं


    अफगानिस्तान पर तालिबान के बंदूक के जोर पर कब्जे से पहले वहां के उपराष्ट्रपति और अब 'कार्यवाहक' राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह तालिबान के सामने हथियार डालने को बिल्कुल भी तैयार नहीं हैं। इतना ही नहीं वे 'रेसिस्टेंस फोर्स' के लड़ाकों को भी जोश दिलाए हुए हैं। ब्रिटेन के डेली मेल अखबार में उनका लिखा आलेख स्पष्ट करता है कि आईएसआई उनकी 'पराजय' होने की जितनी चाहे झूठी खबरें उड़वाए, लेकिन असलियत यही है कि पंजशीर अभी तक अजेय है।

अमरुल्लाह सालेह स्वयं पंजशीर में एक बेहद सुरक्षित ठिकाने पर हैं। वे वहीं से तालिबान के विरुद्ध संघर्ष का बीड़ा उठाए हुए हैं और रेसिस्टेंस फोर्स की अगुआई कर रहे हैं। यह बल फिलहाल बिना किसी बाहरी मदद के उसका निडरता से मुकाबला कर रहा है। सालेह ने एक बार फिर से साफ किया है वे तालिबान के आगे हथियार नहीं डालेंगे। हालांकि ऐसी खबरें भी कुछ जगह दिखाई दी हैं जो बताती हैं कि तालिबान ने पंजशीर घाटी पर फतह पा ली है, लेकिन रेसिस्टेंस फोर्स ने ऐसी खबरों को दुष्प्रचार कहकर इनका खंडन कर दिया है।  

    सरकार से कोई समर्थन न मिलने की सूरत में सालेह ने अहमद मसूद से बात की थी। आगे की योजना बनाई थी। फिर उन्होंने अपने मुख्य अंगरक्षक को कुरान पर हाथ रख कर कसम खिलाई थी कि 'हम लोग पंजशीर जा रहे हैं। सब सड़कों पर तालिबान का कब्जा है। हम लड़ाई लड़ेंगे। उसमें अगर में घायल होता हूं तो मेरे सिर में दो बार गोली मार देना।'

    बताते हैं उन्होंने अपने अंगरक्षक को साफ हुक्म दे दिया है कि अगर तालिबान से लड़ते हुए वह घायल होते हैं, तो उनके सिर में गोली मार देना। सालेह ने ब्रिटेन के दैनिक डेली मेल में एक लेख लिखा है। इसमें उन्होंने एक बार फिर खुद को अफगानिस्तान का कार्यवाहक राष्ट्रपति लिखा है। पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़कर भाग जाने पर सालेह का कहना है कि वे मानते हैं कि जो नेता देश छोड़कर चले गए, उन्होंने वतन के साथ धोखा किया है। उल्लेखनीय है कि पिछले महीने तालिबान के काबुल पर कब्जा होने पर बजाय उससे लड़ने के वे देश छोड़कर भाग गए, या भूमिगत हो गए।

    उन्होंने लिखा है कि जिस रात को तालिबान काबुल पहुंचा था, तब उन्हें वहां के पुलिस प्रमुख ने फोन करके बताया कि था जेल में बलवा होने लगा है, तालिबानी कैदी भाग खड़े होना चाहते हैं। तब सालेह ने गैर-तालिबानी बंदियों को एकजुट करके उसके विरोध का हुक्म दिया था। उन्होंने लेख में लिखा, ‘जेल में स्थिति को नियंत्रित करने के लिए अफगान विशेष बल को तैनात किया गया था।

    सरकार से कोई समर्थन न मिलने की सूरत में सालेह ने अहमद मसूद से बात की थी। आगे की योजना बनाई थी। फिर उन्होंने अपने मुख्य अंगरक्षक को कुरान पर हाथ रख कर कसम खिलाई थी कि 'हम लोग पंजशीर जा रहे हैं। सब सड़कों पर तालिबान का कब्जा है। हम लड़ाई लड़ेंगे। उसमें अगर में घायल होता हूं तो मेरे सिर में दो बार गोली मार देना।' सालेह ने लिखा है कि वे कभी भी तालिबान के सामने घुटने नहीं टेकेंगे।

Follow Us on Telegram
 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 07 2021 06:58:01

हाथियार डाल दे भाई बंगाल तरस रहा है(पोस्ता)के लिये आफिम की खेति होगा तभि तो पोस्ता मिलेगा हजार का पोस्ता 23 सौ का हो गया है आफगानीस्तान में शांति के लिये कोलकाता मे रह रहे अफगानीयों के साथ संप्रिति का क्रिकेट मैच खेला जा रहा है।चाहो तो काबुलीवाला का बंगाली बोउ (बीबी) ले लो

Also read: चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: अब 30 से अधिक देशों में मान्य हुआ भारत का कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट ..

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन
दुनिया के 10 बड़े कर्जदारों में शामिल हुआ पाकिस्तान, अब मांगे से भी न मिलेगा कर्जा

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने

स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ठहराया और कहा कि यह उन्होंने 'इस्लाम के कानून के हिसाब' से ही किया है नाइजीरिया के एक इस्लामिक स्कूल में लड़की को चार शिक्षकों द्वारा डंडों से पीटे जाने का वीडियो दुनिया भर में तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल ये शिक्षक उस छात्रा को 'सजा' देते दिख रहे हैं। 'सजा' देने वाले वे चारों पुरुष शिक्षक छात्रा को घेरकर पीटते दिख रहे हैं, जबकि वहां तमाशबीनों का मजमा लगा है। इतना ही नहीं, स्कूल ने लड़की को ऐसे घेर कर पीटने को सही भी ...

इस्लामिक स्कूल में छात्रा को डंडों से बेरहमी से पीटा शिक्षकों ने