पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

बांग्‍लादेश में हिंदुओं और हिंदू मंदिरों पर हमले

WebdeskOct 19, 2021, 05:30 PM IST

बांग्‍लादेश में हिंदुओं और हिंदू मंदिरों पर हमले
बांग्लादेश में हिंदुओं की हत्या के खिलाफ कोलकाता में हिंदू संगठनों का प्रदर्शन।

बांग्‍लादेश में हिंदुओं और हिंदू मंदिरों पर हमले के बाद बंगाल में हिंदू भड़के। हिंदू संगठनों ने कोलकाता में विरोध प्रदर्शन किया, जबकि इस्‍कॉन ने 23 अक्‍तूबर को 150 देशों में प्रदर्शन करने की घोषणा की है।


बांग्लादेशमें दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ के बाद हिंदुओं पर हमले जारी हैं। कट्टरपंथी मंदिरों को भी निशाना बना रहे हैं। इसके विरुद्ध बंगाल में लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इस कड़ी में मंगलवार को भी विहिप, हिंदू जागरण मंच सहित भाजपा समर्थकों ने कोलकाता में प्रदर्शन किया।

बांग्लादेश में दुर्गापूजा के दौरान 14 अक्‍तूबर को जिहादियों ने केवल पूजा पंडालों को ही तहस-नहस नहीं किया था, बल्कि मां दुर्गा की प्रतिमाओं को खंडित करने के साथ चार लोगों की हत्‍या भी कर दी थी। इसके बाद जिहादियों ने इस्‍कॉन सहित दूसरे मंदिरों को भी निशाना बनाया। बांग्‍लादेश के 20 अल्‍पसंख्‍यक जिलों में अभी भी हिंदुओं हमले जारी हैं। इस्कॉन मंदिरों पर हमले से आक्रोशित हिंदू संगठनों ने कोलकाता के रासमणि एवेन्यू में प्रदर्शन किया। इसमें भाजपा के अलावा विहिप, हिंदू जागरण मंच सहित अन्‍य हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने दंगाइयों को सजा देने की मांग करते हुए विरोध मार्च निकाला।

150 देशों में इस्‍कॉन का प्रदर्शन 23 अक्‍तूबर को

वहीं, इस्‍कॉन ने मंदिरों पर हमले के विरुद्ध 23 अक्‍तूबर को 150 देशों में प्रदर्शन करने की घोषणा की है। जिहादियों ने इस्कॉन श्रद्धालु की भी हत्‍या कर दी थी। 15 अक्‍तूबर को उसका शव एक तलाब में मिला था।

इससे पहले पश्चिम बंगाल के शिक्षाविदों, कलाकारों, लेखकों, फिल्म अभिनेताओं, निर्देशकों, नेताओं सहित प्रमुख हस्तियों ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना सरकार से दुर्गा पूजा पंडालों और मंदिरों में तोड़फोड़ में शामिल लोगों की पहचान कर उन्‍हें सजा देने की मांग की थी। इस संबंध में 17 अक्‍तूबर की रात को खुला पत्र जारी किया गया, जिस पर 60 हस्तियों के हस्ताक्षर थे। इसमें बांग्‍लादेश की शेख हसीना सरकार से अल्‍पसंख्‍यक हिंदुओं की सुरक्षा की मांग की गई थी।

 

अब तक 71 मामले दर्ज

बांग्‍लादेश के 20 जिलों में अल्‍पसंख्‍यक हिंदुओं पर किए गए हमलों में अब तक कम से कम 4 लोग मारे गए हैं, जबकि 70 घायल हुए हैं। जिहादियों ने कम से कम 70 से अधिक पूजा स्‍थलों को निशाना बनाया। 17 अक्‍तूबर की रात को सोशल मीडिया पर कथित ईशनिंदा वाले एक पोस्ट को लेकर जिहादियों ने हिंदुओं के 66 मकानों को तहस-नहस कर दिया और कम से कम 20 घरों में आग लगा दी। इस मामले में अभी तक 71 मामले दर्ज करने के साथ 450 संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है। इन हमलों के खिलाफ बांग्लादेश के दूतावास के बाहर रविवार को बांग्लादेशी हिन्दू समुदाय ने प्रदर्शन किया। अमेरिका ने भी हिंदुओं पर हमले की निंदा की है।
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 20 2021 21:55:50

भारत देश में हिंदुओं को हमास और मूसादजैसे संगठन बनाने की आवश्यकता है हिंदू धर्म के लोग अपने धर्मावलंबियों की रक्षा कर सकते हैं दुनिया में कहीं भी दिग्विजय सिंह को दूर रखें इस मामले से

user profile image
Anonymous
on Oct 19 2021 20:57:30

इस्कॉन पुरी दुनिया की संख्यालघुओं केे लिए आंदोलन कर रहा है। इस्कॉन मायापुर मंदीर प्रांगण में नमाज आदा और इफ्तार पार्टी देता है।हिंदुत्व का सहारा ले रहा है। उद्देश्य कुछ और है पाकिस्तान में अत्याचार पर चुप रहता है। विश्व हिंदू परिषद को चाहिए अलग हटकर आंदोलन करना

Also read:करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में बिना सिर ढके पाकिस्तानी मॉडल ने खिंचवाई तस्वीरें, सिख श ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन ने दिल खोलकर की भारत की तारीफ, बताया-सबसे अच् ..

कम्युनिस्ट चीन की सेना में बड़े पैमाने पर भर्ती और आधुनिकीकरण के पीछे जिनपिंग की मंशा क्या?
पाकिस्तान के हैदराबाद में हिन्दू महिला सोनारी मंदिर में पढ़ाती है कबीले के बच्चों को

'ओमीक्रोन' वायरस का बढ़ रहा कहर; दक्षिण अफ्रीका, यूरोप और एशिया में खतरे की घंटी

कोरोना के इस नए म्यूटेंट से कम खतरनाक माना गया कोरोना वायरस का पिछला स्वरूप दुनिया भर में 50 लाख से ज्यादा लोगों की जान लील चुका है। लेकिन आज, इस नए स्वरूप से दुनिया और भयभीत हो चली है। तमाम देशों में स्वास्थ्य एजेंसियां सावधान हो गई हैं   चीन से करीब दो साल पहले निकलकर पूरी दुनिया को चपेट में लेने वाली कोरोना वायरस की महामारी अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। लेकिन अब इसी वायरस का ज्यादा संक्रामक और घातक बताया जाने वाला म्यूटेंट ओमीक्रोन एक बार फिर से विश्व की सांसें थामे है। उल्लेखनीय ...

'ओमीक्रोन' वायरस का बढ़ रहा कहर; दक्षिण अफ्रीका, यूरोप और एशिया में खतरे की घंटी