पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अयोध्या : श्रीराम जन्मभूमि में मंदिर निर्माण का पहला चरण पूरा

Webdesk

WebdeskJan 15, 2022, 09:11 AM IST

अयोध्या : श्रीराम जन्मभूमि में मंदिर निर्माण का पहला चरण पूरा
भगवान राम

निर्माण स्थल पर पत्रकारों को वीडियो और फोटो खींचने की दी गई अनुमति। भक्तों को  राममंदिर निर्माण की पूरी जानकारी मिल सके। इसी के तहत अयोध्या शहर में एलईडी स्क्रीनों पर प्रसारण की योजना है।

 

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चम्पत राय ने बताया कि श्रीराम जन्मभूमि में मंदिर निर्माण का पहला चरण पूरा हो गया है। राममंदिर के दूसरे चरण के निर्माण में 21 फीट ऊंची प्लिंथ ग्रेनाइट के पत्थरों से बनेगी। इसमें पत्थरों के 18 हजार ब्लॉक लगेंगे।

उन्होंने बताया कि यदि फरवरी से प्लिंथ का निर्माण शुरू हो गया तो अगले पांच महीने में यह बनकर तैयार हो जाएगा। इसके बाद प्लिंथ के ऊपर गर्भगृह आकार लेना शुरू करेगा। उन्होंने बताया कि दिसंबर 2023 तक गर्भगृह में रामलला विराजित होंगे। 

ट्रस्ट महासचिव राय ने बताया कि राम भक्तों के लिए हमारी योजना है कि उन्हें राममंदिर निर्माण की पूरी जानकारी मिल सके। इसी के तहत शहर के एलईडी स्क्रीनों पर प्रसारण की योजना है। राममंदिर निर्माण की प्रगति का एक वीडियो प्रसारित करने की योजना है। अयोध्या आने वाला हर श्रद्धालु राममंदिर निर्माण की तकनीक व भव्यता से परिचित हो सकेगा।

शुक्रवार को मकर संक्रांति के अवसर पर सायंकाल रामकोट स्थित रंगमहल बैरियर पर पूर्व सूचना के तहत भारी संख्या में पत्रकार एकत्र हुये। ट्रस्ट महासचिव चंपत राय, ट्रस्टी डॉ अनिल मिश्रा, मीडिया प्रभारी शरद शर्मा के साथ उपस्थित सभी पत्रकारों ने श्रीराम जन्मभूमि में हो रहे निर्माण कार्य की फोटो ली और वीडियो बनाया।

(सौजन्य सिंडिकेट फीड)

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Jan 15 2022 11:22:48

Jay Shree Ram 🙏

Also read:‘‘अयोध्या को उसकी पहचान दिलाने के लिए कृतसंकल्पित हूं’’ -योगी आदित्यनाथ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत
सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र

भारत में जनतंत्र

पाञ्चजन्य ने हमेशा पत्रिका को लोकतंत्र का मंच बनाए रखने का यत्न किया। इसमें सभी विचारों को स्थान मिलता रहा। इस क्रम में कांग्रेसी, राष्ट्रवादी, समाजवादी, वामपंथी सभी विचारकों के आलेखों को पाञ्चजन्य ने प्रकाशित किया। श्री मानवेन्द्रनाथ राय (1887-1954) भारत के स्वतंत्रता-संग्राम के क्रान्तिकारी तथा विश्वप्रसिद्ध राजनीतिक सिद्धान्तकार थे। उनका मूल नाम ‘नरेन्द्रनाथ भट्टाचार्य’ था। वे मेक्सिको और भारत दोनों की कम्युनिस्ट पार्टियों के संस्थापक थे। वे कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के कांग्रेस के प्र ...

भारत में जनतंत्र