पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

सतलुज नदी में मिली पाकिस्तान की नाव, इसी क्षेत्र में रोका गया था प्रधानमंत्री का काफिला

Webdesk

WebdeskJan 07, 2022, 10:29 PM IST

सतलुज नदी में मिली पाकिस्तान की नाव, इसी क्षेत्र में रोका गया था प्रधानमंत्री का काफिला
प्रतीकात्मक चित्र

बीएसएफ की टीम ने आसपास के क्षेत्रों की तलाशी लेनी शुरू कर दी है। यह जांच की जा रही है कि कहीं नाव में सवार होकर कोई पाकिस्तानी नागरिक भारतीय सीमा में तो दाखिल नहीं हुआ।

 

बीएसएफ ने सर्च ऑपरेशन के दौरान शुक्रवार को फिरोजपुर में सतलुज नदी से पाकिस्तान की नाव बरामद की है। यह खाली थी। सुरक्षा एजेंसियों ने जांच शुरू कर दी है।

यह पता लगाया जा रहा है कि इसमें कौन सवार था? इसको यहां लाने के पीछे उदेश्य क्या था? पाकिस्तान की नाव की बरामदगी इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का काफिला दो दिन पहले इसी क्षेत्र में फंसा था। उनकी सुरक्षा में लापरवाही की खबरें देशभर में चर्चा का विषय हैं।

बीएसएफ की टीम ने आसपास के क्षेत्रों की तलाशी लेनी शुरू कर दी है। यह जांच की जा रही है कि कहीं नाव में सवार होकर कोई पाकिस्तानी नागरिक भारतीय सीमा में तो दाखिल नहीं हुआ। इससे पहले भी 2018 में ऐसी ही नाव मिली थी।

(सौजन्य सिंडिकेट फीड)

Comments
user profile image
Anonymous
on Jan 08 2022 01:10:31

जांच होनी चाहिए मोदी जी है तो सब मुमकिन है योगी जी है तो यकीन है मैं राजेश कुमार पटेल मडंल मंत्री महामना महानगर भाजपा वाराणसी मोबाइल नंबर- 8707667534 मैं नेता नहीं हूँ माँ भारती का बेटा हूँ

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत ..

सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र
भारत में जनतंत्र

दिग्गज विचारकों का मंच बना पाञ्चजन्य

देश के दिग्गज विचारकों ने अपनी बातें जनता तक पहुंचाने के लिए पाञ्चजन्य को एक विश्वसनीय माध्यम माना। पाञ्चजन्य ने लोकतंत्र के पहरुए के रूप में भारतीय परंपरानुरूप सदैव हर विचार का सम्मान किया। यह पाञ्चजन्य के लेखकों की सूची में विभिन्न दिग्गज समाजवादी, कांग्रेसी, सर्वोदयी और वामपंथी विचारकों के शामिल होने से स्पष्ट होता है जयप्रकाश नारायण का जो पहला आलेख पाञ्चजन्य अपने जन्म से ही लोकतंत्र समर्थक रहा है। इसीलिए पत्रिका के नियंताओं ने हमेशा इसे लोकतंत्र के मंच के रूप में प्रस्तुत क ...

दिग्गज विचारकों का मंच बना पाञ्चजन्य