पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

घने बादलों से बचने की कोशिश में चट्टान से टकरा गया था सीडीएस जनरल बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर

Webdesk

WebdeskJan 14, 2022, 09:29 PM IST

घने बादलों से बचने की कोशिश में चट्टान से टकरा गया था सीडीएस जनरल बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर
तमिलनाडु के कुन्नूर में 8 दिसंबर को हुई थी दुर्घटना

भारतीय वायुसेना ने ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के नतीजों का खुलासा किया । जांच कमेटी ने अपने निष्कर्षों के आधार पर भविष्य के लिए कई सिफारिशें भी कीं


देशके पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर 8 दिसम्बर को दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। मामले में ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी पूरी होने के बाद भारतीय वायुसेना ने शुक्रवार को आधिकारिक तौर पर जांच के नतीजों का खुलासा किया है। जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि घने बादलों से बचने की कोशिश में चट्टान से सीडीएस का हेलीकॉप्टर टकरा गया था। तमिलनाडु के कुन्नूर में हुई इस दुर्घटना में जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका समेत 14 लोगों का बलिदान हो गया था।

भारतीय वायुसेना ने आज एक बयान में बताया कि 8 दिसंबर, 2021 को सीडीएस जनरल बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर एमआई-17 वी5 दुर्घटना मामले में ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने अपने प्रारंभिक निष्कर्ष प्रस्तुत किए हैं। जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ के अलावा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का विश्लेषण किया। कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने दुर्घटना के कारण के रूप में यांत्रिक विफलता, तोड़फोड़ या लापरवाही को खारिज कर दिया है। जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि घने बादलों से बचने की कोशिश में पायलट के भटकने के कारण चट्टान से सीडीएस का हेलीकॉप्टर टकराया था। कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने अपने निष्कर्षों के आधार पर कुछ सिफारिशें भी की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है।

तमिलनाडु के कुन्नूर में 8 दिसंबर को हुई दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और सशस्त्र बलों के अन्य 12 कर्मी बलिदान हो गए थे। इसके बाद वायुसेना ने एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में ट्राई सर्विस कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का गठन किया था, जिसमें सेना और नौसेना के एक-एक कमांडर को भी शामिल किया गया था। कमेटी ने तेजी के साथ जांच शुरू की। वायुसेना ने जांच पूरी होने तक किसी भी तरह की बेबुनियाद अटकलों से बचने की सलाह भी दी थी। एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में गठित की गई कमेटी ने अपनी जांच पूरी करके 5 जनवरी को वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी के साथ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को उनके आवास पर जाकर रिपोर्ट के बारे में जानकारी दी थी।

जांच कमेटी ने वायुसेना और थलसेना के संबंधित अधिकारियों के बयान रिकॉर्ड किए हैं। साथ ही उन स्थानीय लोगों से भी बातचीत की है जो इस दुर्घटना के प्रत्यक्षदर्शी थे। उस मोबाइल फोन की जांच भी की गई है, जिससे क्रैश से तुरंत पहले का वीडियो शूट किया गया था। जांच में पाया गया है कि सीडीएस रावत के हेलीकॉप्टर एमआई-17वी5 ने सुबह 11:48 बजे सुलूर एयर बेस से उड़ान भरी। दोपहर करीब 12:08 बजे एयर ट्रैफिक कंट्रोल का इससे संपर्क टूटा। ब्लैक बॉक्स के जरिये इस दुर्घटना के असली कारणों से सम्बंधित महत्वपूर्ण डेटा हासिल करने करने की कोशिश की गई है। दुर्घटना के एक माह के भीतर ही कमेटी ने त्रि-सेवा जांच पूरी करके रिपोर्ट कानूनी समीक्षा के लिए भेज दी थी जिसका खुलासा आज किया गया है। अब यह जांच रिपोर्ट सरकार को सौंपी जाएगी।

(सौजन्य सिंडिकेट फीड)

Comments

Also read:‘‘अयोध्या को उसकी पहचान दिलाने के लिए कृतसंकल्पित हूं’’ -योगी आदित्यनाथ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत
सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र

भारत में जनतंत्र

पाञ्चजन्य ने हमेशा पत्रिका को लोकतंत्र का मंच बनाए रखने का यत्न किया। इसमें सभी विचारों को स्थान मिलता रहा। इस क्रम में कांग्रेसी, राष्ट्रवादी, समाजवादी, वामपंथी सभी विचारकों के आलेखों को पाञ्चजन्य ने प्रकाशित किया। श्री मानवेन्द्रनाथ राय (1887-1954) भारत के स्वतंत्रता-संग्राम के क्रान्तिकारी तथा विश्वप्रसिद्ध राजनीतिक सिद्धान्तकार थे। उनका मूल नाम ‘नरेन्द्रनाथ भट्टाचार्य’ था। वे मेक्सिको और भारत दोनों की कम्युनिस्ट पार्टियों के संस्थापक थे। वे कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के कांग्रेस के प्र ...

भारत में जनतंत्र