पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संघ

दिल्ली: करोल बाग में समर्थ भारत प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन

WebdeskOct 11, 2021, 02:49 PM IST

दिल्ली: करोल बाग में समर्थ भारत प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन

 नई दिल्ली स्थित करोल बाग में समर्थ भारत प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे दिल्ली प्रांत के प्रांत कार्यवाह श्री भारत भूषण अरोड़ा।



नई दिल्ली स्थित करोल बाग में समर्थ भारत प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे दिल्ली प्रांत के प्रांत कार्यवाह श्री भारत भूषण अरोड़ा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते देश और विश्व संकट से गुजर रहा है। गांव—गांव, शहर—शहर यह संक्रमण फैला। संक्रमण की शुरुआत में इसका इलाज भी किसी को पता नहीं था। कोई समुचित चिकित्सा व्यवस्था भी नहीं थी। परिणाम यह हुआ जनहानि हुई। हम सबने अपने निकट के संबंधियों, परिजनों, मित्रों आदि को असमय खोया, जो बहुत ही दुखदायी था। कुल मिलाकर कहें तो एक लंबे कालखंड में ऐसा संकट मानव जीवन पर नहीं आया होगा, जिसमें इतनी बड़ी त्रासदी हुई हो। ऐसा संकट अब न आए, ईश्वर से यही प्रार्थना है। उन्होंने कहा कि समाज में एक वर्ग ऐसा है, जो हर दिन कमाता—खाता है।

    कोरोनाकाल में उस वर्ग पर बड़ा संकट आ गया। जिस काम को करके वह अपने परिवार का भरण—पोषण करता था, वह काम बंद हो गया। एक तरह से कहें तो जीवन पटरी से उतर गया और भोजन तक की समस्या उसके सामने आ खड़ी हुई। इस दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं सेवा भारती ने हर स्तर पर इन परिवारों की मदद की। हमने 1 करोड़ भोजन के पकैट, 2 लाख राशन की किट सहित अनेक जरूरतमंद वस्तुएं इन परिवारों तक पहुंचाईं। इसका परिणाम यह रहा कि इन परिवारों का मनोबल नहीं गिरा। पर इसी दौरान एक कल्पना मन में आई कि सेवा कार्य एक सीमित समय तक ही किया जा सकता है। क्यों न ऐसे परिवार, लोगों को उनके पैरों पर खड़ा किया जाए। उनको कुछ ऐसे काम सिखा दिए जाएं, जिससे उनको नौकरी मांगने की आवश्यकता ही न पड़े। जैसे— ऐसी ठीक करना, बाल काटना, मसाज करना, सिलाई—कढ़ाई, ब्यूटी पार्लर आदि।

    श्री अरोड़ा ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि इन कामों में ठीक—ठाक पैसा है। अगर यह सभी इन कामों को सीख जाएंगे तो स्वयं के परिवार का भरण—पोषण कर ही लेंगे साथ ही अन्य लोगों को भी रोजगार देने में समर्थ हो जाएंगे। समर्थ भारत प्रशिक्षण केंद्र उसी कल्पना का साकार रूप है। इस केंद्र में इन सभी कामों को सिखाया जाएगा। उन्होंने समाज से आहृवान किया कि हमारे थोड़े से प्रयास से जो अपने लोग कष्ट एवं विपन्नता में हैं, वह सुखी जीवन जी सकेंगे। इसलिए हम सभी को बढ़ चढ़कर ऐसे कामों में आगे आना चाहिए। हमारे सहयोग से किसी का चेहरा खिल उठे, इससे बड़ा सुख और कुछ नहीं हो सकता।

 

    कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित सेवा भारती, दिल्ली प्रांत के अध्यक्ष श्री रमेश अग्रवाल ने कहा कि सॉफ्ट स्किल बहुत ही महत्वपूर्ण है। आज हम छोटे—छोटे कार्य सीखकर अच्छा धनोपार्जन कर सकते हैं, साथ ही दूसरों को भी रोजगार दे सकते हैं। यह केंद्र उन सभी की मदद करेगा जो कुछ सीखना चाहते हैं। केंद्र को हमारी ढेर सारी शुभकामनाएं हैं।  


    कार्यक्रम की समाप्ति पर करोल बाग के जिला संघचालक श्री अशोक सचदेवा ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि हम सदैव सेवा कार्यों में सहयोग के लिए तैयार रहते हैं और विश्वास दिलाते हैं कि ऐसा ही एक सेंटर और खोलेंगे। इस अवसर पर मुख्य रूप से समर्थ भारत के संयोजक सर्वश्री शोनाल गुप्ता,नेक्स्ट्रा डेवलपर्स के मुख्य प्रबंध निदेशक अशोक बंसल, विनीत भाटिया, सेवा भारती के जिलाध्यक्ष सुरेंद्र खंडेलवाल सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित रहे।   

Comments

Also read:दीन के दयाल का ‘दर्शन’ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:गूढ़ प्रश्नों के सरल उत्तर देती थी गुरुजी की लेखनी ..

राष्ट्रभाव की गूंज
राष्ट्रीय अस्मिता का ‘धर्मयुद्ध’

इस मुकाम से अतीत का स्मरण

स्वाधीनता के बाद उस पत्रकारिता की आवश्यकता अधिक बढ़ गई थी जिससे राष्ट्रीयता की धारा को अविरल बनाया जा सके। जब देश और संस्थाएं दोराहे पर थीं तब भारत के सामने प्रश्न था कि अपना रास्ता क्या है? उसकी खोज के लिए नहीं, उसे पहचानने के लिए एक आवाज के रूप में पाञ्चजन्य निकला। इसका अर्थ सीधा है। वह यह कि राह तो थी। उसे खोजना नहीं था। उसे जानना था। उसका उद्घोष करना था। यही कार्य पत्रकारिता का है। रामबहादुर राय इस प्रसंग से पाञ्चजन्य की पत्रकारिता को समझना सरल हो सकता है। बहुत साल पहले की यह बात है। ...

इस मुकाम से अतीत का स्मरण